Aug
01

भाजपा का महात्मा गाँधी की छवि छीनने का प्रयत्न

भाजपा का महात्मा गाँधी की छवि छीनने का प्रयत्न

-
भीष्म कुकरेती
-
हमारे जीवन में छवि का बहुत महत्व है। राजनीति तो छवि का ही खेल। प्रत्येक राजनैतिक दल किसी न किसी प्रतीक को धोता है और अपनी छवि को जिन्दा रखता है है या उस छवि को विकसित करता रहता है। तामिलनाडु में द्रविड़ दल एना रामास्वामी पेरियार की छवि को अपने दल में समाये रहते हैं तो मायावती बाबा साहेब आंबेडकर की छवि पर अधिकार समझती है। समाजवादी पार्टियां भी किसी न किसी छवि को अपना आधार बनाये रहते हैं।
कॉंग्रेस के पास तो स्वतंत्रता आंदोलन का आधार है तो कॉंग्रेस अपनी छवि के साथ स्वतन्त्रता आंदोलन प्रतीक को अवश्य ही जोड़ती है। साथ साथ में कॉंग्रेस अपनी राजनैतिक छवि को सुदृढ़ करने हेतु नेहरू गाँधी की छवि को जोड़े रहती ही है। नेहरू गाँधी के दो अर्थ हैं नेहरू और महात्मा गांधी और नेहरू व इंदिरा गाँधी।
भाजपा के पास स्वतन्त्रता आंदोलन का आधार इतना बड़ा आधार नहीं है कि भाजपा इसे आधार बनाये या अपने साथ जोड़े । शायमा प्रसाद मुखर्जी या दीं दयाल उपाध्याय अथवा अटल बिहारी बाजपेयी राष्ट्रिय स्तर के प्रसिद्ध नेता हुए हैं किन्तु वे इतने बड़े नेता न थे कि प्रत्येक भारतीय के मन में छवि बना सकें। अतः भाजपा को स्वतन्त्रता आंदोलन संबंधी छवि वाले नेताओं की आवश्यकता स्वाभाविक है। प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी व उनके थिंक टैंक राजनैतिक छवि निर्माण या छवि को साथ रखने में संवेदनशील हैं व बड़ी सावधानी बरतते हैं। नरेंद्र मोदी जब गुजरात के मुख्यमंत्री थे तो उन्होंने भाजपा को सरदार पटेल से जोड़ने की सबसे ऊँची प्रतिमा स्थापित करने की शुरवात कर ली थी। आज सरदार पटेल को भाजपा से जोड़ा जाने लगा है और कॉंग्रेस को ऐसी स्थिति में ला दिया है कि कॉंग्रेसी खुले मन से सरदार पटेल को कॉंग्रेस की धरोहर नहीं मानते जिसके पीछे कॉंग्रेस ही दोषी है जिसने नेहरू व नेहरू परिवार को सर्वाधिक प्रचार दने का कार्य किया। भाजपा ने कॉंग्रेस के लिए ऐसी स्थिति पैदा कर दी है कि धीरे धीरे कॉंग्रेस से सरदार पटेल का पल्ला छूट जाएगा और भाजपा सरदार पटेल से पललबन्द करते नजर आएंगे।
महात्मा गांधी अधिक काल के भगवान है जिसकी छवि हर कोई अपनी धरोहर बनाना चाहता है। भाजपा , राष्ट्रिय स्ययं संघ के पास गाँधी से संबंध बनाने का कोई मूल भी नहीं है और ना हो कोई तर्कसंगत इतिहास। किन्तु भाजपा को भारत में सालों तक जड़े जमाना है तो महत्मा गांधी से जुड़ना व जवाहर लाल नेहरू की छवि कमजोर करना आवश्यक है। भाजपा द्वारा नेहरू की छवि को पृष्ट भूमि में डालना छवि -प्रबंधन की दृष्टि से बिलकुल सही कदम माना जायेगा। भाजपा सरकारें जवाहर लाल नेहरू की छवि को किसी न किसी तरह पृष्ठभूमि में डालने का कार्य करती रहेगी।
जहाँ तक महत्मा गाँधी की छवि का प्रश्न है हर राजनैतिक दल महत्मा छवि को अपने साथ जोड़ना चाहेगा। भाजपा का सम्पूर्ण भारत में लम्बे समय तक जड़े जमाने हेतु भी भाजपा का महात्मा गांधी के साथ जुड़ना आवश्यक है।
भाजपा को वास्तव में कॉंग्रेस से महत्मा गाँधी की छवि को छीनना पड़ेगा इसके अतिरिक्त भाजपा के पास कोई विकल्प भी नहीं है केवल एक ही विकल्प है कॉंग्रेस से महात्मा गांधी की छवि छीनना।
भाजपा को पता है महत्मा गांधी की छवि को भाजपा से सुगमता से नहीं जोड़ा जा सकता। इसके लिए नरेंद्र मोदी व अमित शाह ने रणनीति घोषित भी कर दी है।
महात्मा गाँधी की 150 वें जन्म जयंती के उपलक्ष में दो अक्टूबर से 31 दिसंबर तक भाजपा नेता सारे भारत में स्थल स्थल पर जाकर गांधी विचारों का प्रचार करेंगे। चूँकि कॉंग्रेस सघन कार्यकर्ता विहीन हो गयी है तो वह ऐसे कार्क्रम करेगी नहीं तो भाजपा द्वारा महत्मा गाँधी विचार कायक्रमों का आयोजन कुछ नहीं अपितु महात्मा गांधी की छवि को भाजपा से जोड़ने की सकारात्मक रणनीति है और सम्भवतया भाजपा इस रणनीति में सफल भी होगी। भाजपा को गाँधी विचार प्रचार कार्यक्रमों से कई लाभ है। एक तो महात्मा गाँधी की छवि युवाओं के मन में भाजपा से कहीं न कहीं जुड़ जाएगी , दूसरा लाभ यह है कि भाजपा को जनता से संवाद बनने हेतु कोई साधन मिल रहा है और कॉंग्रेस को कमजोर करने का लाभ तो मिलेगा ही।
कॉंग्रेस की लाचारी है कि अभी उनके पास कोई राष्ट्रीय अध्यक्ष ही नहीं है तो भाजपा द्वारा गाँधी को भाजपा से जोड़ने की रणनीति के विरुद्ध कुछ भी करने में असमर्थ रहेगी।

Jul
31

Are Indian Muslims fool

Are Indian Muslims Fool?
South Asian Humour: Bhishma Kukreti
-
I declare that in my opinion no Indian Muslim is fool at all..
However, by watching yesterday’s debate in Rajya Sabha, on Teen Talak abolishing Bill and subsequently the result show that All Indian political parties think that not only Indian Muslims but all Indians are fool.
Sharad Pawar and his family party show that National Congress Party is against Teen Talak Bill proposed by BJP government. NCP Rajya Sabha leader Memon criticized the bill and tore the argument by BJP members. Memon showed that NCP is against the bill and is pro Muslims. However, NCP head Pawar and his chief lieutenant Praful Patel both were absent from Rajya Sabha yesterday.
Politicians created perception that those support Teen Talak system in Muslim community are real supporter of Muslims and those want to abolish Teen Talak System are enemy of Indian Muslim community. Sharad Pawar wanted to show that his family party NCP is stern supporter of Muslims and his party members criticized BJP government for disturbing Muslim personal laws. However, when time came to vote against the Teen Talak Bill, Sharad Pawar and his assistant Patel were absent from the house for whole day. What a mockery of democracy by Pawar and company.

Same way, BSP, JD(U) , TDP, SP , TRs , PDP , criticized abolishing Teen Talak bill by sharp words and showed that all the above parties are stern supporters of Indian Muslims but when time came for voting against the bill their party members were absent from the floor.
Do all those arty perceive that Indian Muslims are fool and Indian Muslims don’t understand the reality? All Indians now, are full aware of hypocrisy of Indian political parties.
Criticizing a bill and not voting against the bill by parties is nothing but thinking that Indians are fool but Indians are not fool .Indians show by vote that who is real fool.

Copyright@ Bhishma Kukreti, 2019
India satire, South Asian Humour, South Asian satire on Political Hypocrisy, South Asian Wit on Political Hypocrisy; Wit on Teen Talak Bill

Jul
30

Kamli: A Poetic Garhwali Play inspiring for Girl Education and Doctors in villages

Kamli: A Poetic Garhwali Play inspiring for Girl Education and Doctors in villages
(Chronological History and Review of Modern Garhwali Stage Plays)
Review of Garhwali Stage Play collection ‘Rangchhol ( Plays created by Ghanshala -16 )
(Review for Stage Play ‘Kamli’ the Stage play created by Kula Nand Ghanshala )
Review by: Bhishma Kukreti (Literature Historian and Critic)
-
Kamli is a poetic Garhwali stage play created by famous playwright Kula Nand Ghanshala. The said stage play Kamli is an inspirational drama inspiring people for encouraging girls education and stopping drops out by girls in higher education. Parents of Kamli are of opinion of old thinking that son should be educated but not girl. However, because of persuasion from society the parents become ready for higher education of Kamli. Kamli become doctor and her would be helped for the same.
The drama also pays attention on responsibility of doctors for working in rural working.
Dr D.R Purohit rightly praised Kula Nand for amusing poetic stage play and verses used by the dramatist.
Education department should arrange staging the drama ‘Kamli’.
Kamli: a social Garhwali Drama
By: Kula Nand Ghanshala
(From Rangchhol a Garhwali Drama collection)
Publisher- Samay Sakshsya Prakashan
Dehradun
Published: Year 2019
Copyright@ Bhishma Kukreti

Garhwali Stage plays /dramas from Block, Pauri Garhwal, South Asia; Garhwali Stage plays /dramas from Garhwal, South Asia; Garhwali Stage plays /dramas from Chamoli Garhwal, South Asia; Garhwali Stage plays /dramas from Rudraprayag Garhwal, South Asia; Garhwali Stage plays /dramas from Tehri Garhwal, South Asia; Garhwali Stage plays /dramas from Uttarkashi Garhwal, South Asia; Garhwali Stage plays /dramas from Dehradun Garhwal, South Asia;

Jul
30

I am ready for becoming Congress President

I am ready for becoming Congress President
South Asian Satire, Wit, Humour: Bhishma Kukreti
Ife– You should take the fine job in hand.
I – Where are jobs? Opposition leaders are crying that India is now, jobless.
Wife- Opposition leaders don’t open their eyes and you don’t see big opportunity for retired person as you are.
I-Where is job for me ?
Wife- The Congress President Post is vacant for many months.
I- Should I apply for Congress President post?
Wife-You are perfect candidate for the Congress President post.
I-How?
Wife- You can please your boss by all means that you have been doing all those years in your service.
I- Now, Congress president will be free of Nehru –Badra members.
Wife- Do you believe on words from Congressmen?
I-By heart I don’t believe. Many times my mind says perhaps Congress would change .
Wife- No! congress will never change .Congress president might be from Non Nehru –Badra family but order will flow from Nehru-Badra members only.
I- Besides, flattery to Nehru-Badra family members ,there will be work for Congress president .
Wife- Not at all. I guarantee you there will be only one job for Congress President and that is taking order from Nehru-Badra members
I-As ex-Prime Minister Manmohan Singh ji had only one job taking order from Sonia Gandhi or Rahul Gandhi
Wife- Definitely, Congress might change President but will never change its character of sycophancy for Nehru-Badra members
I-You mean that I will not have any job as Congress President
Wife- Why not? You will have only one job praising Nehru-Badra family and opposing all moves by government good or bad.
I –I am now over 6o and Congress requires energetic leaders rather ..
Wife- No . Congress never required energetic young leaders but only Chaploos Netas .Had it required energetic leaders then there should not be talk of making Motilal, Khadge or Gahlot as interim President.
I- Ok then I am sending application letter to Congress Working committee
Wife- You doesn’t know CWC is just a committee on paper. Send your application to Rahul Gandhi or Priyanka Badra .

Copyright@ Bhishma Kukreti
Satire on Sycophancy, Satire on Congress Culture, Satire on shattered opposition

Jul
29

नै तरां साहित्य आलोचना पर बि ध्यान दीण जरुरी च !

नै तरां साहित्य आलोचना पर बि ध्यान दीण जरुरी च !
-
विमर्श – भीष्म कुकरेती
-
सूचना माध्यम अवतरण परान्त नै तरां साहित्य बि अवतरित हूंद। अखबार अवतरण परांत पत्रकारिता साहित्य शुरू ह्वे। इंटरनेट आणो उपरान्त तो भौत सा साहित्य की शुरुवात ह्वे। इंटरनेट या सोशल मीडिया आण से पाठकों म वृद्धि इ नि ह्वे अपितु साहित्यकारों सणि नै बनि आलोचक बि मिलण शुरू ह्वेन।
इंटरनेट कु लाभ या च बल साइत्यकार फटफटाक जाणि जांद बल वेक साइत्य म कथगा जान च , वजन च अर साइत्यन बंचनेरुं तैं कथगा आकर्षित कार , कै रूप म आकर्षित कार इख तक बल यी बि जणे जै सक्यांद बल कथगा संख्या म आकर्षित कार।
इंटरनेट साइत्य म भाषाओं सणि एक नै किस्मौ आलोचक बि मिलणा छन अर या आलोचना च बंचनेरुं आलोचना ज्वा ोऑफलाइन साहित्यम् कम इ दिखणो मिलदी छे। गढ़वाली साहित्य प्रसारण इंटरनेट माध्यम भौत भली अर तीब्र गति से ह्वे। गढ़वाली साहित्य क पुनर्जन्म इंटरनेट ग्रुप जन कि पौड़ी गढ़वाल , कुमाऊं गढ़वाल , यंग उत्तरांचल या मुंबई उत्तरांचल ग्रुप से शुरू ह्वे , ब्लॉग या वेब साइटूंम बढ़ अर फिर नव माध्यम जन कि फेसबुक या व्हट्सप व यूट्यूबम तीब्र वृद्धि ह्वे अर यी सब नव माध्यम दगड़म बंचनेरुं आलोचना बि लैन ज्वा कबि बि पैल गढ़वाली साहित्य म उपलब्ध नि छे। भौत सि जगा तो साइत्य से अधिक महत्वपूर्ण पाठकुं आलोचना दिखे गे।
इंटरनेट माध्यमुं म बंचनेरुं आलोचना का कत्ति पक्ष छन। जनकि –
मुंडळि पौढ़िक टीका टिप्पणी करण वळ अधिक संख्याम छन अर यी पाठक केवल शीर्षक बांचि प्रतिक्रिया दिंदेर हूंदन किन्तु यी साइत्यकार कु ुलार उत्साअ बढाणो बान आवश्यक खुराकौ काम करदन याने उप्रेरणा वास्ता यी बँचनेर आवश्यक छन। म्यार भौत दै अनुभव च बल बगैर भितर बंच्या यी बंचनेर इन प्रतिक्रिया बि दींदन ज्वा अबांछित बि हूंदी। मीन एक लघु नाटक फेसबुक म पोस्ट कार’ क्या नेहरु विरासत धरासायी की जा रही है ?” तो भौत सा कॉंग्रेसी या कॉंग्रेस समर्थक व भाजपा समर्थक बंचनेरुंन बगैर भितर बंच्यां प्रतिक्रिया दीण शुरू कार याने शीर्षक पौढ़ि मेरी आलोचना (कॉंग्रेस समर्थक बंकनेर ) या प्रशंसा (अधिसंख्या भाजपा समर्थक ) करण लग गेन। मीन दुई किस्मौ बंचनेरुं कुण साफ़ लेखी दे बल पैल पूरो नाटक बांचो तब प्रतिक्रिया द्यावो। खैर मि जरा बौळया किस्मौ लिख्वार छौं तो हिम्मत कर दींदो निथर हरेक सायित्यकारम इथगा हिकमत कम ही हूंद जु बंचनेरुं तै हड़कै द्यावो।
कुछ स्टीरिओ टाइप का आलोचक पाठक हूंदन (यी साहित्यकार बि हूंदन तो आम बंचनेर बि ) यूंक ख़ास शब्द हूंदन – गजब , भौत बढ़िया , सुपरब , वह , मेरी दिल की बात आदि। आम पाठक से स्टीरिओटाइप प्रतिक्रिया त पचाये जै सक्यांद किन्तु साहित्यकार से स्टीरिओटाइप कमेंट्स अपाच्य ही माने जाल। कुछ स्टीरिओटाइप प्रतिक्रिया फोटो प्रतिक्रिया हूंदन जु इंटरनेट म उपलब्ध छन जन कि वह , सुपरब , वेरी गुड आदि आदि।
भौत सा असाहित्यिक बंकनेर भौत इ बढ़िया प्रतिक्रिया दींदन अर यि प्रतिक्रिया कबि कबि नै बहस ही शुरू कर दींदन। जैं प्रतिक्रिया से नई बहस। नयो घपरोळ शुरू हो वो इ टीका टिप्पणी साहित्य बान फायदामंद हूंदीन।
भौत बार आम बंचनेर विषय से हटिक प्रतिक्रिया बि दींदन जु वास्तव म पाठक की अंतर्मन म बैठीं बथ हूंदन अर मि तो यूं प्रतिक्रियाओ जग्वाळ म रौंद किलैकि यी इन विषय हूंदन जो पाठक पढ़न चांदन।
कुछ साहित्यकार नेत्र सिंग असवाल जन हूंदन जो निस्पक्छ समालोचना करदन पर भौत इ कम इन पाठक हूंदन। कुछ साहित्यकार सियां रौंदन अर प्रतिक्रिया इ नि दींदन।
कुछ बाइस (bias ) पाठक हूंदन जु आपसे सामाजिक या राजनैतिक रूप से चिढ़दा छन तो यूंकि प्रतिक्रिया पक्सपाती ही माने जाली।
इनि कथगा किस्माक पाठक आलोचना औणी रौंदन जौंक संकलन व एकत्रीकरण आवश्यक च। पर कठिन बि च।
गढ़वळि मा इन पाठकुं आलोचना एकत्रीकरण व प्रकाशन कु सबसे पैल गढ़वाली म डा सतीश कालेश्वरी न कार। उंकी ‘ 2017 म प्रकाशित सुणदा रावा … ‘ काव्य संग्रह म सैकड़ों पाठक आलोचना बि प्रकाशित हुयीं छन। डा सतीश कलेश्वरी वधाई ला पात्र छन जौन ये नयो साहित्य की तरफ ध्यान दे।
साहित्यकारों तै यिं नई किस्मा आलोचना पर अब विशेष ध्यान दीण इ पोड़ल। या आलोचना नया अलंकार नया कहवत युक्त जि हूंद या होली अर यी टिप्पणी पाठकों Insight /इनसाइट छन जो महत्वपूर्ण हूंद।

Copyright @ Bhishma Kukreti July 2019
नई आलोचना , नई समालोचना , पाठक प्रतिक्रिया , पाठक टिप्पणियां , नव साहित्य , New criticism, New Type of Criticism

Older posts «

Copy Protected by Chetans WP-Copyprotect.