Category Archive: Women in Uttarakhand

May
03

उत्तराखंड की प्राचीन और परंपरागत प्रोद्योगिकी –ओखली(Okhali), ऊखव

Photo0555[1] copy

ओखली एक  प्राचीन प्रोद्योगिकी का एक बहुत-ही बेहतरीन नमूना है | जब चक्कियां नही हुआ करती थीं , तब ग्रामीण क्षेत्रों में इसका प्रयोग कूटने-पीसने के लिए किया जाता है | इसमें प्रायः छिलके वाला अन्न कूटा जाता है | ओखली में प्रायः धान, मडुवा, जों,बाजरा,गेहूं आदि कूटा जाता है | ओखली का निर्माण एक …

Continue reading »

Mar
23

बुजुर्ग महिलाओं ने उठाया परम्पराओं व सांस्कृतिक विरासत को बचाने का बीड़ा..

When there's a will there's a way..age is just a number

रुद्रप्रयाग जिला मुख्यालय के पास एक गाँव है बरसू | बरसू गाँव भी आम पहाड़ी गाँवों की तरह ही है, लेकिन इस गाँव में रहने वाली पाँच बुजुर्ग महिलाओं का काम कुछ अलग तरह का है | उम्र के चौथे पड़ाव में पहुँची ये वयोवृद्ध महिलायें पुरानी प्रथाओं, रीति-रिवाज ,पूजा-पाठ की विधियां और मांगल गीतों …

Continue reading »

Apr
22

Which age are we living in?

Working Women

In todays time and age when everyone is talking about women’s liberation, equality of genders and men and women working together; we wonder which era are people from village Sarai in Haridwar, Uttarakhand living in? Working women of Haridwar village face panchayat’s wrath This is a shocking instance and all the more shameful coming from …

Continue reading »

» Newer posts

Copy Protected by Chetans WP-Copyprotect.