«

»

May
05

संस्थान संस्कृति सिखणो मतलब ऐब्रीवेटिव वर्ड्स सीखो !

संस्थान संस्कृति सिखणो मतलब ऐब्रीवेटिव वर्ड्स सीखो !

जु मैनेजमेंट कॉलेजुं मा नि सिखाये जांद -7

चबोड़ इ चबोड़ मा मैनेजमेंट स्टाइल पर छींटा कसी ::: भीष्म कुकरेती

ट्रेनिंग कबि बि हो , कखि बि हो , क्वी बि द्यावो , क्वी बि ट्रेनिंग ल्यावो , परीक्षणार्थी तै लघुतम शब्दुं से मुखाभेंट करण पोड़द। ट्रेनर बार बार संस्थान मा प्रयोग हूण वळ अब्रीवेटिव वर्ड्स [शब्दुं लघुतम रूप ] प्रयोग करद अर परीक्षणार्थी डिक्सनरी छपण वाळ तै गाळी दीणु रौंद कि इन डिक्सनरी किलै नि छप जखमा हरेक संस्थानुं का अब्रीवेटिव वर्डसुं अर्थः बि हो। परीक्षणार्थी तै संस्थान की संस्कृति सिखणो असली अर्थ हूंद बल संस्थान मा प्रयोग हूण वळ शब्दुं तै समजण।

दुनिया मा क्वी बि संस्थान हो हरेक संस्थान मा लघुतम शब्दुं प्रयोग अवश्य हूंद।

सार्वभौमिक सामन्य लघुतम शब्द

सब संस्थानों मा सार्वभौमिक सामन्य प्रयोगी लघुतम [अब्रीवेटिव ] शब्द प्रयोग हूंदन जन कि -

CEO -चीफ एक्जीक्यूटिव ओफ़ीसर

MD – मैनेजिंग डाइरेक्टर

KRA -की रिजल्ट एरिया

आदि आदि

जब संस्थान मा यूँ शब्दुं प्रयोग हूंद तो अनजान या नया आदिम बि सरलता से अर्थ समज जांद।

समानार्थी सावभौमिक शब्द पर अलग अलग संस्थानों मा अलग प्रयोग

कुछ लघुतम शब्द अलग अलग हून्दन पर यूं शब्दुं का समानार्थी शब्द बि हूंदन अर इखमा अजनबी या नया कर्मिक जरा परेशानी मा ऐई सकद।

जनकि डीलर नेटवर्क मैनेजमेंट माने हूंद फुटकर व्यापारियुं जाल प्रबंधन अर लघुतम रूप च डीएनएम । किन्तु यूरोप या अमेरिका मा रिटेल नेटवर्क मैनेजमेंट [आरएनएम ] अधिक प्रयोग हूंद।

एक कम्पनी मा मि इंटरव्यू दीणो ग्यों अर मीन बताइ कि मि डीएनएम [डीलर नेटवर्क मैनेजमेंट ] बि सँबांळदु तो इंटरव्यू लीण वळ चचलै गे। जब वैक समज मा आयि कि डीलर नेटवर्क मैनेजमेंट की बात हूणि च तो वै भज्ञानन मि तै धधोड़ दे कि डीएनएम शब्द ही गलत च अर रिटेल नेटवर्क मैनेजमेंट [आरएनएम ]शब्द अधिक मॉडर्न अर सार्थक च।

तो परीक्षणार्थी तै अपण ट्रेनिंग काल मा कम्पनी मा प्रयोग हूण वळ लघुतम शब्द रटण इ पड़दन।

नामुँ का लघुतम रूप

संस्थान मा मैनेजरूँ तै बि एब्रीवेटिव करिक पुकारे जांद। जनकि -डी डी लखनपाल – डीडीएल , अजय कुमार लखनपल -एकेएल या ईश्वरी दत्त -ईद , महमूद हुसैन -महु आदि आदि। यी शब्द संस्थान का अपण धरोहर हूंदन अर देर सबेर कर्मिक यूँ लघुतम शब्दुं मतलब समजि लीन्दन।

कुछ क्रिएटिव विशिष्ठ लघुतम रूप

हरेक संस्थान मा काम का हिसाब से विशिष्ट नाम रचे जांदन अर या हि त संस्थान की विशिष्ट संस्कृति हूंदी।

जन कि मेरी एक पुरण कम्पनी का सर्विस सेंटर मा एक शब्द छौ -टीके। मैनेजर बुल्दु छौ – अरे तै रेडिओ का टीके करिक जल्दी दे दे। मि तै द्वी साल बाद पता चौल कि टीके शब्द क्वी टेक्निकल शब्द नी च बल्कण मा ‘थूक लगा के ‘ शब्द का लघुतम रूप च। जब क्वी कस्टमर तै भौति जल्दी हो तो टीके तकनीक का द्वारा त्वरित सेवा दिए जांद छौ। अर बॉस या कै तै बौगणा नाम बि ‘टीके’ छौ।

मीन लखनपाल , लोटस, वीडियोकॉन जन कंपन्यूँ मा काम कार अर यूँ कंपन्यूँ मा सेल्स मा इतना गढ़वाली रौंद छ कि भैर वळ यूँ कम्पन्यूं तै गढ़वाल प्राइवेट कम्पनी बि बुल्दा छ। खैर इख हम लोग अपण मुहावरा बि प्रयोग करदा अर वु मुहावरा संस्थान का शब्द बि बण जांद छ। एक शब्द मि तै याद च – छांछ छोळ। ये शब्द को अर्थ लखनपाल मा छौ कि तै तै छोड़ ना , तै तै तंग कौर ।

केनस्टार मा एक शब्द छौ -जरा जल्दी जा अर ‘क्यूपी ‘ करैक आ। यु शब्द केनस्टार मा प्रोडक्सन अर क्वालिटी कंट्रोल का मध्य चलण वाळ लघुतम शब्द छौ – क्यूपी याने क्वालिटी पास अर अब्याकआबि याने त्वरित। भौत सा समय क्वालिटी मा बदलाव हो या कुछ अन्य कारण ह्वावन तो क्वालिटी विभाग तै त्वरित पास करण आवश्यक हूंद तो इन समय पर क्यूपी शब्द प्रयोग मा आंद छौ।

पीठ पैथराक लघुतम शब्द

अधिकतर कर्मिक अपण बॉस का नाम वैक गुणों का खासकर अवगुण का हिसाब से नाम धरदन अर यि नाम केवल पीठ पैथर ही प्रयोग मा आंदन जनकि -बाघ , बाज , गुस्सैल आदि।

ट्रेनिंग के शुरवात मा परीक्षणार्थी का सामना कै ना कै रूप मा नई शब्दावली से रूबरू हूणि पड़द।

5/5/15 ,Copyright@ Bhishma Kukreti , Mumbai India
*लेख की घटनाएँ , स्थान व नाम काल्पनिक हैं । लेख में कथाएँ , चरित्र , स्थान केवल व्यंग्य रचने हेतु उपयोग किये गए हैं।
Best of Garhwali Humor Literature in Garhwali Language on Management & Organizational Culture; Best of Himalayan Satire in Garhwali Language Literature on Management & Organizational Culture; Best of Uttarakhandi Wit in Garhwali Language Literature on Management & Organizational Culture ; Best of North Indian Spoof in Garhwali Language Literature on Management & Organizational Culture; Best of Regional Language Lampoon in Garhwali Language Literature on Management & Organizational Culture; Best of Ridicule in Garhwali Language Literature on Management & Organizational Culture; Best of Mockery in Garhwali Language Literature on Management & Organizational Culture; Best of Send-up in Garhwali Language Literature on Management ; Best of Disdain in Garhwali Language Literature & Organizational Culture ; Best of Hilarity in Garhwali Language Literature on Management & Organizational Culture; Best of Cheerfulness in Garhwali Language Literature on Management ; Best of Garhwali Humor in Garhwali Language Literature from Pauri Garhwal on Management & Organizational Culture ; Best of Himalayan Satire Literature in Garhwali Language from Rudraprayag Garhwal on Management & Organizational Culture; Best of Uttarakhandi Wit in Garhwali Language from Chamoli Garhwal & Organizational Culture ; Best of North Indian Spoof in Garhwali Language from Tehri Garhwal & Organizational Culture ; Best of Regional Language Lampoon in Garhwali Language from Uttarkashi Garhwal on Management ; Best of Ridicule in Garhwali Language from Bhabhar Garhwal ; Best of Mockery in Garhwali Language from Lansdowne Garhwal ; Best of Hilarity in Garhwali Language from Kotdwara Garhwal ; Best of Cheerfulness in Garhwali Language from Haridwar on Management ;
Garhwali Vyangya , Garhwali Hasya, Garhwali skits; Garhwali short skits, Garhwali Comedy Skits, Humorous Skits in Garhwali, Wit Garhwali Skits
स्वच्छ भारत , स्वच्छ भारत , बुद्धिमान भारत!

Copy Protected by Chetans WP-Copyprotect.