«

»

Jun
04

. . *. मेरु गढदेश. *

. . *. मेरु गढदेश. *
-
-
‘My Garhwal ‘ Poetry by Chandi Prasad Bangwal
. . . . . ========
यूं ऊंचि डाड्युं मां हिंवांलि कांठ्युं मां।
देबतौं कु देश मेरु प्यारु गढदेश।।

*स्वर्ग बटीक पैलि जख गंगा आई।
शिवजी की जटा मां जख वा समाई।
ब्रह्माजी गैन जख शिव जी का
पास
शिवजी रंदांन तै ऊंचा. कैलाश।।
युं ऊंचि डाड्युं——-

पंच बदरि जख पंच केदार.।
तीर्थू मां तीर्थ. जख हरि हरिद्वार।
हे देवभूमि तेरा पंच प्रयाग।
मनख्युं. का पाप ध्वैक कैदा उद्धार
युं ऊंचि डाड्युं – ——–

देबी भगवति जख नौ छन बैणीं।
दैत्यों को. नाश कन ह्वैन जु दैंणीं
अष्ट भैरब जख नौ नारसिंग।
जै जै घंडियाल देब जै कैलापीर।
युं ऊंचि डाड्युं – - – —

पावन पवित्रजख द्यबतौं का धाम
गंगोत्री यमुनोत्री. स्वर्ग. समान।
हे देवभूमि. त्वैकैं शत-शत प्र णाम
भारत कि धरती. मां तेरि छ शान।
युं ऊंचि डाड्युं मां ——-
———*——*——
. . . . . . . . चण्डी प्रसाद. बंगवाल

-
-
Garhwali Poems, Folk Songs , verses from Garhwal, Uttarakhand; Garhwali Poems, Folk Songs , verses from Pauri Garhwal, Uttarakhand; Garhwali Poems, Folk Songs , verses from Chamoli Garhwal, Uttarakhand; Garhwali Poems, Folk Songs , verses from Rudraprayag Garhwal, Uttarakhand; Garhwali Poems, Folk Songs , verses from Tehri Garhwal, Uttarakhand; Garhwali Poems, Folk Songs , verses from Uttarkashi Garhwal, Uttarakhand; Garhwali Poems, Folk Songs , verses from Dehradun Garhwal, Uttarakhand; Garhwali Poems, Folk Songs , verses from Haridwar Garhwal, Uttarakhand; Himalayan Poetries, North Indian Poetries , Indian Poems, SAARC countries poems, Asian Poems
गढ़वाल , उत्तराखंड ,हिमालय से गढ़वाली कविताएं , गीत ; पौड़ी गढ़वाल , उत्तराखंड ,हिमालय से गढ़वाली कविताएं , गीत ; चमोली गढ़वाल , उत्तराखंड ,हिमालय से गढ़वाली कविताएं , गीत ; रुद्रप्रयाग गढ़वाल , उत्तराखंड ,हिमालय से गढ़वाली कविताएं , गीत ; टिहरी गढ़वाल , उत्तराखंड ,हिमालय से गढ़वाली कविताएं , गीत ; उत्तरकाशी गढ़वाल , उत्तराखंड ,हिमालय से गढ़वाली कविताएं , गीत ; देहरादून गढ़वाल , उत्तराखंड ,हिमालय से गढ़वाली कविताएं , गीत ; हरिद्वार गढ़वाल , उत्तराखंड ,हिमालय से गढ़वाली कविताएं , गीत ; Ghazals from Garhwal, Ghazals from Uttarakhand; Ghazals from Himalaya; Ghazals from North India; Ghazals from South Asia, Couplets in Garhwali, Couplets in Himalayan languages , Couplets from north India
Thanking You with regards

B.C.Kukreti

Copy Protected by Chetans WP-Copyprotect.