«

»

Jun
14

।करयु छो पैली।

।करयु छो पैली।
-
Garhwali Poem by Diwakar Budakoti
-

जख चलनी छै मेरी रिश्ता कि बात दगड्या
उंकू झणि कै दगडि करार करयू छो पैली ।

मि गै उंकि दैळिम् द्यबता नौ कु हल्दू मंगणा कु
पण उंकु कै ओरु नौ कु गुलबंद पेरयू छो पैली ।

जै दुसमन ते खुज्याणू रो मि छामा छामि कैकि
वो पटवारि जि कु रिश्बत खेकी, फरार करयु छो पैली।

वै फर आणि रै हर्पणा सैद भूतू कि बार बार
जो डांडा कांठो कि अंचरियों कु हर्प्यू छो पैली ।

जैकु तमासु दिखणा खुण ,खड़ि धौण कना रै तमसगैर
वेकु अफुखुण फिट जंक जोड़ करयु छो पैली।

लोग वै खुण बुना रै फूक फूकि क मारि रे घटाक
जो बिचरु भितर भैर दूधा कु जलयू छो पैली।

उज्याङ् ख़ैगै क्वी औरि, अर फंसिगै बिचरु “खुदेड़”
अब वो कैम बोलु कि मि च्वट्टा ख़ैकि कलयू छो पैली।

सर्वाधिकार सुरक्षित -:

दिवाकर बुडाकोटी
संगलाकोटी , पौड़ी गढ़वाळ

-
-
Garhwali Poems, Folk Songs , verses , ग़ज़ल्स, from Garhwal, Uttarakhand; Garhwali Poems, Folk Songs , verses from Pauri Garhwal, Uttarakhand; Garhwali Poems, Folk Songs , verses from Chamoli Garhwal, Uttarakhand गढ़वाल , उत्तराखंड ,हिमालय से गढ़वाली कविताएं , गीत ; पौड़ी गढ़वाल , उत्तराखंड ,हिमालय से गढ़वाली कविताएं , गीत ; चमोली गढ़वाल , उत्तराखंड ,हिमालय से गढ़वाली कविताएं , गीत ; रुद्रप्रयाग गढ़वाल , उत्तराखंड ,हिमालय से गढ़वाली कविताएं , गीत ; टिहरी गढ़वाल , उत्तराखंड ,हिमालय से गढ़वाली कविताएं , गीत ; उत्तरकाशी गढ़वाल , उत्तराखंड ,हिमालय से गढ़वाली कविताएं , गीत ; देहरादून गढ़वाल , उत्तराखंड ,हिमालय से गढ़वाली कविताएं , गीत ; हरिद्वार गढ़वाल , उत्तराखंड ,हिमालय से गढ़वाली कविताएं , गीत ; Ghazals from Garhwal, Ghazals from Uttarakhand; Ghazals from Himalaya; Ghazals from North India; Ghazals from South Asia, Couplets in Garhwali, Couplets in Himalayan languages , Couplets from north India
d; Garhwali Poems, Folk Songs , verses from Rudraprayag Garhwal, Uttarakhand; Garhwali Poems, Folk Songs , verses from Tehri Garhwal, Uttarakhand; Garhwali Poems, Folk Songs , verses from Uttarkashi Garhwal, Uttarakhand; Garhwali Poems, Folk Songs , verses from Dehradun Garhwal, Uttarakhand; Garhwali Poems, Folk Songs , verses from Haridwar Garhwal, Uttarakhand; Himalayan Poetries, North Indian Poetries , Indian Poems, SAARC countries poems, Asian Poems
Thanking You .
Jaspur Ka Kukreti

Copy Protected by Chetans WP-Copyprotect.