«

»

Jul
09

नीम वनीकरण से स्वास्थ्य पर्यटन विकास

नीम वृक्ष वनीकरण से स्वास्थ्य पर्यटन विकास

Neem Tree Plantation for Medical Tourism Development

औषधि पादप वनीकरण -35
Medicinal Plant Community Forestation -35
उत्तराखंड में चिकत्सा पर्यटन रणनीति -137
Medical Tourism Development Strategies -137
उत्तराखंड पर्यटन प्रबंधन परिकल्पना – 241
Uttarakhand Tourism and Hospitality Management -241

आलेख : भीष्म कुकरेती ( विपणन आचार्य )

लैटिन नाम -azadirachta indica
संस्कृत /आयुर्वेद नाम -निम्ब:
सामान्य नाम – नीम
आर्थिक उपयोग
छाया ,
खली
खेतों के कीड़ी आदि भगाने हेतु
टहनियां

—–औषधि उपयोग —

रोग व पादप अंग जो औषधि में उपयोग होते हैं

जड़ें

पत्तियां

छाल

फूल

फल

बीज
रोग उपयोग
फंगस , बैक्ट्रीरिया , कीट अवरोधक
कई साबुनों , शैम्पू , दंत ंजनों में उपयोग
बुखार , कफ , मलेरिया में
त्वचा शुद्धि
रक्त शोधक
कई औषधियों का महत्वपूर्ण अवयव

२०
पादप वर्णन
समुद्र तल से भूमि ऊंचाई – 7 4 0 मीटर तक
तापमान -२१ – ३२ अंश से , अधिक तापमान व सूखा सहने की अप्रतिम शक्ति किन्तु शीत नहीं शान कर सकता है ४ सेल्सियस से नीची नहीं।
वांछित जलवायु वर्णन -
वांछित वर्षा mm- ४०० से आदिक
वृक्ष ऊंचाई मीटर – 15 -२० किन्तु ४० तक भी मिलता है
तना गोलाई मीटर – ऊंचाई व आयु पर निर्भर ४० cm से अधिक ही
छाल – हरा से मटमैला
टहनी – वृक्ष छत बनाने का गुण
पत्तियां
पत्तियां आकार , लम्बाई X चौड़ाई cm और विशेषता -२० से ४० सेंटीमीटर लम्बी , गहरा हरा
फूल आकार व विशेषता – सफेद लटकने वाले

फल रंग -हरा गूदेदार व अंदर गुठल , लघु सेव जैसे
बीज /गुठली विशेषता, आकार , रंग – गोल भूरा खोल
-
बीज/गुठली कितने समय तक अंकुरण हेतु क्रियाशील हो सकते हैं – फल पकते ही बोया जाय तो लाभकारी

संक्षिप्त कृषिकरण विधि -
बांछित मिट्टी प्रकार pH आदि -५. ५ से ७ तक , सभी प्रकार की मिटटी उष्ण कटिबंध , शीत नहीं सह सकता
वांछित तापमान विवरण – 30 -४०
बीज बोन का समय – मानसून
नरसरी में बोते समय बीज अंतर – १ cm गोबर की तह सही
मिटटी में बीज कितने गहरे डालने चाहिए – 5 १० cm गहराई
नरसरी में अंकुर रोपण अंतर- १ मीटर
बीज बोन के बाद सिचाई क्रम -
अंकुरण समय – ७ १० दिन , अंकुरण प्रतिशत ७५ से ९० ,
रोपण हेतु गड्ढे मीटर १/२ x १/२ x १/२
रोपण बाद सिचाई – सामन्य
नरसरी स्थान छायादार या धुपेली – धुपेली

क्या वनों में सीधे बीज या पके फल छिड़के जा सकते हैं ? हाँ
वयस्कता समय वर्ष – ३ ४ साल ७ मीटर ऊंचाई प्राप्त कर सकता है व पत्तियां व टहनी प्रयोग किया जा सकता है

यह लेख औषधि पादप कृषिकरण /वनीकरण हेतु जागरण हेतु लिखा गया है अतः विशषज्ञों , कृषि विद्यालय व कृषि विभाग की राय अवश्य लें

कृपया इस लेख का प्रिंट आउट ग्राम प्रधान व पंचायत को अवश्य दें

Copyright@ Bhishma Kukreti , 2018 , kukretibhishma@gmail.com

Medical Tourism Development in Uttarakhand , Medical Tourism Development in Garhwal, Uttarakhand , Medical Tourism Development in Kumaon Uttarakhand ,
Medical Tourism Development in Haridwar , Uttarakhand , Medicinal Tree Plantation for Medical Tourism Development in Garhwal, Medicinal Tree Plantation for Medical Tourism Development in Kumaon; Medicinal Tree Plantation for Medical Tourism Development in Haridwar , Herbal Plant Plantation in Uttarakhand for Medical Tourism; Medicinal Plant cultivation in Uttarakhand for Medical Tourism, Developing Ayurveda Tourism Uttarakhand,

Copy Protected by Chetans WP-Copyprotect.