«

»

Feb
08

मूत्र गुण व चिकित्सा

मूत्र गुण व चिकित्सा
Urine Therapy Tourism
चिकित्सा पर्यटन विकास हेतु मूत्र चिकित्सा विकास -1
Urine therapy for Medical Tourism Development -1

उत्तराखंड में चिकत्सा पर्यटन रणनीति – 264

Medical Tourism development Strategies -264

उत्तराखंड पर्यटन प्रबंधन परिकल्पना – 385

Uttarakhand Tourism and Hospitality Management -385

आलेख – विपणन आचार्य भीष्म कुकरेती

-

पशु मूत्र चिकित्सा
भारत में स्वमूत्र (5000 वर्ष प्राचीन ) व पशु विशेषकर गौ मूत्र चिकित्सा 3000 व पहले से प्रसिद्ध चिकित्सा है। पंचगावय घृत व गौ मूत्र मंत्रणा तो प्राचीन काल से ही प्रसिद्ध है।
चरक संहिता सुश्रुत संहिता, भाव परकास में मूत्र चिकित्सा हेतु विशेष अध्याय हैं।
चरक संहिता के सूत्रस्थानम भाग के 93 वे श्लोक से 106 वे श्लोक तक मूत्र विवेचना है। इसी तरह सुश्रुत संहिता बागभट्ट संहिता में बे पशु मूत्र की विवेचना की गयी है।
चरक संहिता ने निम्न पशु मूत्र से चिकत्सा पद्धति बतलायी है -
१- भेड़ मूत्र
२- बकरी मूत्र
३-गौ मूत्र
४-भैंस मूत्र
५- हस्ती मूत्र
६- गर्दभ मूत्र
७-ऊंट मूत्र
८-अश्व मूत्र
चरक ने मूत्र के गुण इस प्रकार बताये हैं -
गरम
तीक्ष्ण

कटु

लवण युक्त
पशु मूत्र निम्न रूप से औषधियों में उपयोग होते हैं -
उत्सादन

आलेपन

प्रलेपन

आस्थापन में निरुह में
विरेचन

स्वेदन

नाड़ीस्वेद
अनाड़

विषनाशक

चरक ने प्रत्येक पशु मूत्र के गुण व रोग निदान का विवरण दिया है जो आज भी कार्यरूप में सही सिद्ध हुए हैं यथा ।
भेड़ मूत्र न पित्त बढ़ने देता है न शमन करता है
अजमूत्र (बकरी ) त्रिदोष नाशक स्रान्तो में हितकारी
गौमूत्र -कुष्ठ , खाज ,कृमि नाशक , पेट व बात हेतु लाभकारी
भैंस मूत्र – बबासीर , उदर रोग , शोथ निवारण हेतु
हस्ती मूत्र -अवरुद्ध मल ,मूत्र रोग ,विषरोग , बबासीर में लाभकारी
ऊंट मूत्र – स्वास , खास , अर्श रोग नाशक

अश्व मूत्र -कुष्ट विष व व्रण रोग नाशक

गर्दभ मूत्र -मिर्गी आदि अप्पसार विनास में लाभकारी ,

आधुनिक चिकत्सा शास्त्री भी गौ मूत्र को चिकित्सा हेतु लाभकारी मानते हैं व गुलहन हर्षद व अन्य विअज्ञानिकों ने (इंटरनेशनल जॉर्नल ऑफ़ आयुर्वेदा फार्मा जिल्द 8 (5 ) 2017 में आधुनिक चिकत्स्कों द्वारा गौ मूत्र को निम्न रोगों हेतु लाभकारी माना है -
कैंसर निरोधक
नुकसानदेय एन्टीबायटिक औषधियों की रजिस्टेंस रोक (प्रिवेंसन ऑफ एन्टीबायटिक रजिस्टेंस )
फंगीसाइड्स

एंटीसेप्टिक

ऐन्थेलमेंटिक ऐक्टिविटी
बायोइनहैंसर
इमिनो स्टीमुलेंट
घाव भरान शक्ति
एंटी यूरोलिथिएटिक एफ्फेक्ट

Copyright @Bhishma Kukreti, bjkukreti@gmail .com

Urine Therapy for Medical Tourism development in Garhwal , Uttarakhand ; Urine Therapy for Medical Tourism development in Chamoli Garhwal , Uttarakhand; Urine Therapy for Medical Tourism development in Rudraprayag Garhwal , Uttarakhand; Urine Therapy for Medical Tourism development in Pauri Garhwal , Uttarakhand; Urine Therapy for Medical Tourism development in Tehri Garhwal , Uttarakhand; Urine Therapy for Medical Tourism development in Uttarkashi Garhwal , Uttarakhand; Urine Therapy for Medical Tourism development in Dehradun Garhwal , Uttarakhand; Urine Therapy for Medical Tourism development in Haridwar Garhwal , Uttarakhand; Urine Therapy for Medical Tourism development in Pithoragarh Kumaon , Uttarakhand; Urine Therapy for Medical Tourism development in Champawat Kumaon , Uttarakhand; Urine Therapy for Medical Tourism development in Almora Kumaon , Uttarakhand; Urine Therapy for Medical Tourism development in Nainital Kumaon , Uttarakhand; Urine Therapy for Medical Tourism development in Udham Singh Nagar Kumaon , Uttarakhand;

पौड़ी गढ़वाल मेडिकल टूरिज्म विकास हेतु मूत्र चिकित्सा विकास ; उधम सिंह नगर कुमाऊं मेडिकल टूरिज्म विकास हेतु मूत्र चिकित्सा विकास ; चमोली गढ़वाल मेडिकल टूरिज्म विकास हेतु मूत्र चिकित्सा विकास ; नैनीताल कुमाऊं मेडिकल टूरिज्म विकास हेतु मूत्र चिकित्सा विकास ; रुद्रप्रयाग गढ़वाल मेडिकल टूरिज्म विकास हेतु मूत्र चिकित्सा विकास ; अल्मोड़ा कुमाऊं मेडिकल टूरिज्म विकास हेतु मूत्र चिकित्सा विकास ; टिहरी गढ़वाल मेडिकल टूरिज्म विकास हेतु मूत्र चिकित्सा विकास ; चम्पावत कुमाऊं मेडिकल टूरिज्म विकास हेतु मूत्र चिकित्सा विकास ; उत्तरकाशी गढ़वाल मेडिकल टूरिज्म विकास हेतु मूत्र चिकित्सा विकास ; पिथौरागढ़ कुमाऊं मेडिकल टूरिज्म विकास; देहरादून गढ़वाल मेडिकल टूरिज्म विकास हेतु मूत्र चिकित्सा विकास ; रानीखेत कुमाऊं मेडिकल टूरिज्म विकास; हरिद्वार गढ़वाल मेडिकल टूरिज्म विकास हेतु मूत्र चिकित्सा विकास ; डीडीहाट कुमाऊं मेडिकल टूरिज्म विकास हेतु मूत्र चिकित्सा विकास ; नैनीताल कुमाऊं मेडिकल टूरिज्म विकास हेतु मूत्र चिकित्सा विकास :

Copy Protected by Chetans WP-Copyprotect.