«

»

May
15

चाइनीज होटलम जैन मापो टोफू विदाउट स्प्रिंग अनियन

चाइनीज होटलम जैन मापो टोफू विदाउट स्प्रिंग अनियन
-
मजाक मसखरी : भीष्म कुकरेती
-
सि वै दिन ग्रेट संघाई चाइनीज होटलम भोजन छौ। उन मि चाइनीज , इटालियन , मैक्सिकन कुजीन भौत पसंद करदो किन्तु दुसरा मौणी मा अपर जेबन ना। अपण खीसा से विदेशी भोजन म मजा त नि आन्दु । हाँ त तै बगत दसेक लोक रै होला। तौं मादे छै शाकाहारी छ अर यूं मादे चार जैन छ द्वी अबि अबि वेज बणीन त जोर जोर से वेटर पर किराणा छा कखि नॉन वेज करी मिक्स नि ह्वे जाव् हाँ। चार पक्का हिंदी छा जु आज सुंगर याने पोक का पूरा मजा लीण चाणा छा तो द्वी मुसलमान पोक से दूर इ रौण चाणा छा।
जब शुरू ह्वे त वेटरन ड्रिंक्स बाराम पूछ त सब्युंन चाइनीज टी की फरमाइश करि। जबकि अमूनन हिन्दू हो , हिन्दू जैन हो , सिख हो या मुसलमान हो हिन्दुस्तानी भजन से पैल चाय पीण त छोड़ो दिखण बि पसंद नि करदो केवल चाइनीज होटलम भोजन से पैल चायपान । मीन लिम्बु पाणी मंगै दे , वेटर त ना पर बकै सब भोजन प्रेमी आश्चर्य म चली गेन जन बुल्यां मीन जैन मंदिर आहाताम नॉन वेज मंगाई दे हो।
स्टार्टर आयी तो एक बिरळs तरां गुर्राणु छौ बल मी तै चिली गार्लिक प्राउन नि चयाणु छौ। त एक शाकाहारी न स्टार्टर कुछ बि नि खायी , किलैकि वींक कौस्मैटोलिगिस्टन में मीनू खाणै सलाह जि दियीं छे।
कुछ देर बाद बातचीत भोजन अर भारतीय संस्कृति पर अटक गे।
क्वी रुणु थौ बल इडली बड़ा साम्भर से पाचक ब्रेकफास्ट क्या होलु किन्तु हम चाइनीज डॉजियांग , टंगबाओ गीजी गेवां। फिर चाइनीज भोजन की प्रशंसा गीत लगण मिसेन।
जैन महिला न बोली – कबि म्यार ड्यार आवो तो मि असली जैन भोजन , जैन मक्खन उसल खलौल।
इथगा मा एक नॉन वेज महिला न बोली – म्यार ड्यार ऐला तो मि नली निहारी खलौल। सब नॉन भेज नली निहारी की प्रशंसा चौंफळा लगाण मिसे गेन। जैन लोगुं कुण नो गार्लिक , नो अनियन।
जब में कोर्स आयी त वेटरों होसियारी दिखण लैक छै , मुस्लिम का आस पास पोक /सूअर का मांस नि आण चयेंद , जैन लोगन पास क्वी बि नॉन वेज का अंस नि दिखेण चयेंद। तो हिन्दू नॉन वेज टेरियन का पास बीफ नाम नि आण चयेंद।
असली भारतीय संस्कृति दर्शन दिखणो मिलणु छौ। अलग अलग भोजन शैली किन्तु सामंजस्य ह्वे जांद।

Copyright @ Bhishma Kukreti मई 2019

Copy Protected by Chetans WP-Copyprotect.