«

»

Jul
20

तुम बि रड़्यां, मी बि रैड़ु।

तुम बि रड़्यां, मी बि रैड़ु।
Garhwali Poetry by Viveka Nand Jakhmola ‘Shailesh’
तुम बि रड़्यां, मी बि रैड़ु।

पाड़ उंद खस्कि सैरू,
यख उजड़्यां खंद्वार रैना,
अब क्या लगाण कैमा?
कुछ बणांग प्वट्गि कि,
कुछ सिकासौर्यूं कु खेल।
कुछ अराम तलबि खुणि,
कुछ कि यख बि बणीं रेल ।
पलायन पलायन कु रोणु रोणा सबि,
शहरुं मा मचै ठ्यला ठेल।
खालि प्वड़्यां गौं का गौं,
यख मचि ग्या रेलम पेल।
सड़्यां मैंगा फलूं देखि,
याद कना तिमला बेडु।
Copyright@ Viveka Nand Jakhmola
Garhwali songs, Poems on Migration, Pain in metros, pain in cities , pains of migration

Copy Protected by Chetans WP-Copyprotect.