«

»

Jul
24

भरत -पाक सचिवुं बैठक

गढवाली हास्य व्यंग्य साहित्य

भरत -पाक सचिवुं बैठक

चबोड्या – भीष्म कुकरेती

[हास्य व्यंग्य साहित्य गढवाली हास्य व्यंग्य; उत्तराखंडी हास्य व्यंग्य साहित्य ; मध्य हिमालयी हास्य व्यंग्य, हिमालयी हास्य व्यंग्य ; उत्तर भारतीय क्षेत्रीय भषाई हास्य व्यंग्य लेखमाला ]

- – अदाव अर्ज जी ! भारत का सेक्रेटरी जी

– जी नमस्कार ! पाकिस्तान का सचिव जी

– जी आप तै क्वी दिक्कत त नि ह्व़े जी

– नै नै जी. आप तै त क्वी परेशानी नि ह्व़े ना ?

– भारतीय सेक्रेटरी ! आप कै भाषा मा बचळयाणा छंवां ?

– जी मि हिंदी मा बात करणु छौं .अर आप?

– हैं फिर या भाषा मेरी बिंगण मा कन कैक आणि च ? मी उर्दू मा बचळयाणु छौं

- पण गजब ह्व़े ग्याई मि भारतीय ह्वेक बि आपकी भाषा बिंगणु छौं अर आप मेरी हिंदी समजणा छंवां !

- हाँ भै ! हैं अछा हमारि इक्जनी बोली च हैं ?

- मै बि इनी लगद कि हमारि भाषा एकी च

– त फिर त हम तै अंग्रेजी मा बचळयाण चएंद . कखि हमारि पाकिस्तानी आवाम तै पता चौल ग्याई कि हम द्वी देसूं भाषा एकी च त … कुज्याण क्य ह्व़े जाव धौं !

– हाँ हम बि कतई नि चांदा कि हमारा हिन्दुस्तानी लोक जाणन कि पाकिस्तान अर हिन्दुस्तान कि एकी जवान च . लेट अस टाक इन इंग्लिश ओनली

- – दैट्स बेटर. इंडियन सेक्रेटरी प्रसाद जी

– अछा जनाब हसन मियाँ जी . भविष्य की पाकिस्तान – हिन्दुस्तान विदेस सचिवों बैठक का वास्ता एजेंडा तैयार करण मा क्वी कठिनाई त नि होली ना ?

- प्रसाद जी ! मै नि लगद कि मीटिंग क एजेंडा बणाण मा क्वी दिक्कत हूण चएंद

– हसन जी त सबसे पैल टैम क्या हूण चएंद

– प्रसाद जी मै लगद सुबेर नौ बजि ठीक रालो

- हसन जी यू त भौत जल्दी च भै

- प्रसाद जी , त ठीक च सवा नौ बजि ?

-हसन जी आप तै नि लगद कि सवा नौ बजि जरा बिंडी देर च ..?

– हाँ जी ! ठीक च सुबेर नौ बजि क दस मिनट ठीक रालो ?

– वाह ! हसन जी पाकिस्तानी अर हिन्दुस्तानी एक बात मा त सहमत छन कि मुख्य सचिवुं बैठक ठीक सुबेर नौ बजि क दस मिनट मा शुरू होण चएंद

-प्रसाद जी हाँ इकमा हम द्वी देस सहमत छंवां . वधाई हो

– हसन जी ! भाषा क बारा मा क्या ख़याल च ?

– प्रसाद जी ! क्वी बि सचिव या मुख्य सचिव ना त उर्दू मा बचळयालु ना ही क्वी हिंदी कु प्रयोग कारल.

– हसन जी ! आप सै बुलणा छंवां . मादरे जुवान से द्वी देसूं मा फ़ोकट मा किलै खटास पैदा करे जाओ

– त प्रसाद जी ! अंग्रेजी क प्रयोग मा बि हम द्वी देसु मा सहमति च.

- एक्सलेंट ! इखम बि हम द्वी देसूं क एकी भौण च

– हसन जी ! त बैठक मा मिनरल वाटर कु रालु ?

– हमर इख पाकिस्तान त मिनरल वाटर पैक हूंद नी च

- भौत बढिया ! त बिसलेरी !

– नै नै प्रसाद जी ! इन गजब नि करण हम पाकिस्तानी भारतीय फिल्म दिखद छंवां , भारतीय पान खांद छंवां पण सौब लुकैक. खुलेआम हम हिन्दुस्तानी चीज नि बापर /प्रयोग करी सकदवां.

- ठीक च हसन जी . त फ़्रांस कु मिनरल वाटर बैठक मा धरे जाला.

– प्रसाद जी ! क्या अमेरिकी मिनरल वाटर नि धरे सक्यांद ?

– हसन जी! नै ! नै अमेरिकी पाणी नि धरण .कखी लोग ब्वालल कि हम द्वी देस अमेरिकी दबाब मा बैठक करणा छंवां

– प्रसाद जी ! यू ठीक ब्वाल आपन. अमेरिकी पाणी बैठक मा रालो त कुज्याण कखि चीन पाकिस्तान पर नराज ह्व़े गे त ?

— अरे वाह ! पाकिस्तान अर हिन्दुस्तान की दुसरी सहमति कि बैठक मा फ्रांसीसी पाणी रालो.

— हसन जी ! अच्छा टेबल क्लोथ क बारा मा क्या ख़याल च ?

– प्रसाद जी ! इखम सुचण क्या च ? बस मेजपोश कु रंग हरो अर भग्वया रंग को नि होण चएंद

– त ठीक च हसन जी ! क्वी यूरोप देसु रंग वाळ मेजपोश होलू

- जी !

- प्रसाद जी ! हिन्दुस्तान – पाकिस्तान कि तीसरी सहमति बि ह्व़े ग्याई .मै लगुद कि हमारो एजेंडा बौणि जालो.

–जी, हसन जी

- प्रसाद जी नक्वळ/नास्ता मा बि हम पाकिस्तानी अर भारतीय नक्वळ धौर नि सकदवां.

–हसन जी आप बिलकुल सोळ अन सै बात बुलणा छंवां . हम अपण देसौ जनता अर उन्ना देसौ (फ़ोरेन ) डिप्लोमेटु तै औफ़िसियली बथाई इ नि सकदा कि हमारो खाण पीण एकी च.

- त याँ पर बि सहमती ह्व़े ग्याई कि नास्ता मा इटालियन , फ्रेंच या रूसी खाण क अर चीनी सूप.

- हसन जी एक्सलेंट !

-प्रसाद जी , चाय अर कॉफ़ी बि श्री लंका कि इ ह्वेली हाँ .

-हसन जी ! दुरस्त. अर चिन्नी मलेसिया या थाई देस की

- ऐब्स्युटलीटली राईट , सही सहमति. प्रसाद जी हम आम सहमति का तरफ जल्दी जल्दी पौंछणा छंवां हाँ !

– हसन जी आप हुस्यार सेक्रेटरी छंवां हाँ !

– प्रसाद जी आप बि बात बिंगण मा कम नि छंवां हाँ !

- फिर फल बि कै तिसरो देस का इ होला

- बस इखम अब बहस नि होली कि मुख्य सचिवुं औपचारिक बैठक मा क्वी बि चीज हिंदुस्तान अर पाकिस्तान कि नि होली

- अच्छा त हसन जी अब बैठक को असली मुद्दा क बात करे जाओ.

– जी प्रसाद जी . अब जन कि कश्मीर, जनता क भलाई बान रक्षा बजट मा कमी क बात त ह्व़े नि सकदी .

- जी हसन जी हम यूँ असली काम कि बातुं पर छ्वीं लगौला त य़ी बात पोलीटिकलि खतरनाक बात ह्व़े जाला. विस्फोटक स्तिथि ऐ जाली

- त एक काम करदवां जु एजेंडा भुट्टो अर इंदिरा सम्मिट मा छौ वै इ एजिंडा तै २०१३ को एजिंडा बणै दीन्दा

– एक्सलेंट

–ओ माई गौड ! हम सब बतु पर सहमत ह्वे गेवां ।

- अछा सूणो ! हसन जी , आपकुण आपकी पसंद आगरा क पेठा लयां छया त आप भूटान एम्बेसी से मंगै लेन

- जी शुक्रिया. आपकुण बि आपकी पसंद कराची क हलवा लयुं च आप श्री लंका एम्बेसी से मंगै लेन

– धन्यवाद , अच्छा अब प्रेस वाळु तै बथै दीन्दा बल भारत अर पाकिस्तान मा मुख्य सचिवुन बैठक क बान आम सहमति बौण गे.

-ऑल द बेस्ट

- ऑल द बेस्ट

Copyright@ Bhishma Kukreti 24/7/2012

हास्य व्यंग्य साहित्य ; गढवाली हास्य व्यंग्य; उत्तराखंडी हास्य व्यंग्य साहित्य ; मध्य हिमालयी हास्य व्यंग्य, हिमालयी हास्य व्यंग्य ; उत्तर भारतीय क्षेत्रीय भषाई हास्य व्यंग्य जारी …

Copy Protected by Chetans WP-Copyprotect.