«

»

Aug
26

अट्टा , टोला ( यमकेश्वर , पौड़ी ) में भट्ट परिवार के तिबारी युक्त मकान में काष्ठ कला अलंकरण, लकड़ी नक्कासी

 

अट्टा , टोला (  यमकेश्वर , पौड़ी ) में भट्ट परिवार के  तिबारी युक्त मकान में काष्ठ कला अलंकरण, लकड़ी नक्कासी 

 

गढ़वाल,  कुमाऊँ , उत्तराखंड , हिमालय की भवन  (तिबारी, निमदारी , जंगलादार  मकान , बाखली  , बखाई ,  खोली  ,   कोटि बनाल   )  में काष्ठ कला अलंकरण, लकड़ी नक्कासी– 248

Traditional House Wood Carving Art in  Atta , Tola, Yamkeshwar , pauri garhwal

संकलन -भीष्म कुकरेती

  यमकेश्वर क्षेत्र से  तिबारियों व निमदारियों की अच्छी खासी संख्या में सूचना  मिलती रहती है।  इसी क्रम में आज अट्टा गाँव के  यमकेश्वर  ब्लॉक के ब्लॉक प्रमुख श्रीमती  आशा  भट्ट व यमकेश्वर के वरिष्ठ प्रमुख  दिनेश भट्ट के मकान में काष्ठ  कला व अलंकरण पर चर्चा होगी।   भट्ट परिवार का मकान दुपुर व दुघर है।   मकान में खोली है किन्तु खोली का काम  आंतरिक सीढ़ी नही है।  मकान के पहली मंजिल में तिबारी स्थापित है।

दो खोलियों  में   सिंगाड़ /स्तम्भ सीधे हैं व इनमे कोई  विशेष नक्काशी दृष्टिगोचर नहीं होती है। मुरिन्ड (खोली का शीर्ष या मथिण्ड ) चौखट है। खोली के मुरिन्दमे फूल उकेरे गए हैं

तिबारी  चौखम्या (चार स्तम्भ ) व तिख्वळया  है।  स्तम्भ पत्थर के छज्जे के ऊपर देहरी में स्थापित हैं।  स्तम्भ का आधार कुम्भी नुमा है जो उल्टे कमल से निर्मित है , उल्टे कमल के ऊपर ड्यूल है और ड्यूल के ऊपर उर्घ्वगामी पद्म पुष्प है। सीधे कमल से स्तम्भ  लौकी आकर ले ऊपर बढ़ता है।  जहां स्तम्भ की मोटाई सबसे कम है वहां से स्तम्भ ऊपर एक थांत  बन ऊपर चलते चौखट सादे मुरिन्ड से मिल जाता है।  यहीं से तोरणम का आधा चाप निकलता है व सामने के स्तम्भ के  अर्ध  चाप से मिल पूर्ण तोरणम बनता है।  तोरणम /मेहराब के दोनों स्तम्भ के स्कंध में एक एक फूल है।

निष्कर्ष निकलता है कि  मकान आधुनिक है व शैली  पारम्परिक  शैली का है  व  लकड़ी  प्राकृतिक व ज्यामितीय अंलकरण हुआ है।   लकड़ी में नक्काशी  ‘काठ  कुरण ‘ शैली में हुआ है।

सूचना व फोटो आभार : हरीश कंडवाल 

यह लेख  भवन  कला संबंधित  है न कि मिल्कियत हेतु . मालिकाना   जानकारी  श्रुति से मिलती है अत: अंतर हो सकता है जिसके लिए  सूचना  दाता व  संकलन कर्ता  उत्तरदायी  नही हैं .

Copyright @ Bhishma Kukreti, 2020

गढ़वाल,  कुमाऊँ , उत्तराखंड , हिमालय की भवन  (तिबारी, निमदारी , जंगलादार  मकान , बाखली  , कोटि बनाल   ) काष्ठ  कला अंकन, लकड़ी पर नक्कासी   श्रृंखला

यमकेशर गढ़वाल में तिबारी , निम दारी , जंगलेदार  मकान , बाखली में काष्ठ कला , नक्कासी ;  ;लैंड्सडाउन  गढ़वाल में तिबारी , निम दारी , जंगलेदार  मकान , बाखली में काष्ठ कला , नक्कासी ;दुगड्डा  गढ़वाल में तिबारी , निम दारी , जंगलेदार  मकान , बाखली में काष्ठ कला , नक्कासी ; धुमाकोट गढ़वाल में तिबारी , निम दारी , जंगलेदार  मकान , बाखली में काष्ठ कला ,   नक्कासी ;  पौड़ी गढ़वाल में तिबारी , निम दारी , जंगलेदार  मकान , बाखली में काष्ठ कला , नक्कासी ;

कोटद्वार , गढ़वाल में तिबारी , निम दारी , जंगलेदार  मकान , बाखली में काष्ठ कला , नक्कासी ;

 

Copy Protected by Chetans WP-Copyprotect.