«

»

Sep
14

जखोल क्षेत्र (उत्तरकाशी ) में एक मकान में आधारभूत काष्ठ निर्माण शैली व काष्ट कला

 

 

 

 

जखोल क्षेत्र (उत्तरकाशी ) में एक मकान में  आधारभूत   काष्ठ निर्माण शैली व काष्ट कला , अलकंरण अंकन, लकड़ी नक्काशी 

 

Traditional House wood Carving Art in  Jakhol region  ,   Uttarkashi

गढ़वाल,  कुमाऊँ , उत्तराखंड , हिमालय की भवन  (तिबारी, निमदारी , जंगलादार  मकान , बाखली  , खोली  , कोटि बनाल )  में काठ लछ्याणौ ,  कुर्याणौ पाड़ी  ब्यूंत’  काष्ठ  कला , अलकंरण , अंकन, लकड़ी नक्काशी -292

संकलन – भीष्म कुकरेती

-

जखोल भारत का एक  विरासत गाँव में शामिल है।   इस क्षेत्र से कई प्रकार के लकड़ी के मकानों की फोटो व सूचनाएं मिली हैं।  कुछ लकड़ी के  मकान  आधार भूत  शैली में  निर्मित हुए हैं।  प्रस्तुत मकान में भी लकड़ी  की कला व मकान निर्माण शैली आधारभूत प्रकार के हैं।  मकान  के  पिछले   भाग में आम मिट्टी -पत्थर  की चिनाई से निर्माण हुआ है।  मकान   के अग्र  भाग   लकड़ी से निर्मित है।

मकान दुपुर -दुघर है।  मकान में जो भी कला /शैली है व सभी ज्यामितीय कटान से निर्मित हुआ है।   तल मंजिल  व पहले मंजिल के बीच की गांज लकड़ी के बड़े बड़े लट्ठों  (बौळियों  व कड़ियों ) से बना है।  तल मंजिल का बरामदा व बड़े कमरे भी बड़े बड़े लकड़ी के तख्तों  से ढके हैं।  पहले मंजिल में आगे  दो बरामदे ( बड़े बड़े कमरे  )  हैं. पहली मंजिल में आठ स्तम्भ हैं जिनके मध्य के ख्वाळों  में व दीवार की जगह लकड़ी के टिकाऊ तख्ते लगे हैं। ख्वाळों के आधार में रेलिंग हैं जिसमे X नुमा आकर है।

स्तम्भ के ऊपरी भाग में कड़ी है जो मजबूत व टिकाऊ है।

लकड़ी में आरा , बसूला व रन्दे  व छेनी से   लकड़ी में ज्यामितीय कटान  से ही लकड़ी  कला का कार्य सम्पन हुआ है व कटान से आकर्षक निर्माण हुआ है।

जाखोल क्षेत्र  )  (उत्तरकाशी के प्रस्तुत मकान की शैली व कटान आधारभूत शैली का है व आकर्षक है।

 

सूचना व फोटो आभार :  आनंद सिंह पंवार

यह लेख  भवन  कला संबंधित  है न कि मिल्कियत हेतु . भौगोलिक ,  मालिकाना   जानकारी  श्रुति से मिलती है अत: अंतर हो सकता है जिसके लिए  सूचना  दाता व  संकलन कर्ता  उत्तरदायी  नही हैं .

Copyright @ Bhishma Kukreti, 2020

Traditional House Wood Carving Art (Tibari, Nimdari, Bakkhali,  Mori) of   Bhatwari , Uttarkashi Garhwal ,  Uttarakhand ;   Traditional House Wood Carving Art (Tibari, Nimdari, Bakhali,  Mori) of  Rajgarhi ,Uttarkashi ,  Garhwal ,  Uttarakhand ;   Traditional House Wood Carving Art (Tibari, Nimdari, Bakkhali,  Mori) of  Dunda, Uttarkashi ,  Garhwal ,  Uttarakhand ;   Traditional House Wood Carving Art (Tibari, Nimdari, Bakhali,  Mori) of  Chiniysaur, Uttarkashi ,  Garhwal ,  Uttarakhand ;   उत्तरकाशी मकान लकड़ी नक्कासी , भटवाडी मकान लकड़ी नक्कासी ,  रायगढी    उत्तरकाशी मकान लकड़ी नक्कासी , चिनियासौड़  उत्तरकाशी मकान लकड़ी नक्कासी   श्रृंखला जारी रहेगी

 

Copy Protected by Chetans WP-Copyprotect.