«

»

Jan
11

द्यूलख (चोपड़ा, रुद्रप्रयाग ) में त्रिपाठी परिवार (II ) के भवन में गढवाली शैली की ‘काठ कुर्याणौ ब्यूंत’ की काष्ठ कला अलंकरण उत्कीर्णन अंकन

 

 

 

 द्यूलख (चोपड़ा, रुद्रप्रयाग ) में त्रिपाठी परिवार (II ) के भवन में गढवाली शैली की  ’काठ कुर्याणौ ब्यूंत‘ की काष्ठ कला अलंकरण उत्कीर्णन  अंकन

Traditional House wood Carving Art of  Dvyulakh, Chopra Rudraprayag         :

गढ़वाल, कुमाऊँ,उत्तराखंड की भवन (तिबारी, निमदारी, बाखली , जंगलादार  मकान ) में गढवाली शैली की  ’काठ कुर्याणौ ब्यूंत‘ की काष्ठ कला अलंकरण उत्कीर्णन  अंकन,- 382

 

संकलन - भीष्म कुकरेती 

-

द्यूलख (चोपड़ा, रुद्रप्रयाग  )  में त्रिपाठी परिवार से एक अन्य  तिबारी युक्त भवन  की भी सूचना मिली है।  प्रस्तुत भवन में दो तिबारी हैं, एक काश के स्तम्भ  व एक खोली है जिसमे काष्ठ  कला उल्लेखनीय है।  शेष स्थलों क्सक्षों के द्वारों व स्तम्भों में ज्यामितीय अलंकरण कला उत्कीर्णन हुआ है।

द्यूलख (चोपड़ा, रुद्रप्रयाग  )  में त्रिपाठी परिवार   (II ) का भवन दुपुर व दुखंड है।  भवन की खोली भ्यूं  तल   (Ground Floor )  में स्थापित है।  खोली के स्तम्भ गढ़वाली शैली के स्तम्भ हैं अर्थात आधार में अधोगामी पद्म पुष्प, दल ऊपर उर्घ्वगामी पुष्प कला अंकन से कुम्भी निर्माण तथा ऊपर मुरिन्ड /मथिण्ड के स्तर स्तम्भों से निर्मित होते है।

दो तिबारी पहले तल  में हैं ।   दोनों तिबारियों के  ४ -४ स्तम्भ हैं।  एक तिबारी के स्तम्भों में  आधार में अधोगामी पद्म पुष्प, दल ऊपर उर्घ्वगामी पुष्प कला अंकन से कुम्भी व पुनः दोहराव है।  तिबारी का मुरिन्ड/मथिण्ड /header चौखट है।

दूसरी तिबारी के स्तम्भ लगभग आयताकार चौकोर हैं।  पहले तल में एक कश के स्तम्भ के आधार मे भी  कमल पुष्पों से घुंडी /कुम्भी  निर्मित हुयी हैं।

निष्कर्ष निकलता है कि द्यूलख (चोपड़ा  रुद्रप्रयाग )  में  त्रिपाठी परिवार (II nd )  के भवन में  ज्यामितीय व प्राकृतिक अलंकरण कला उत्कीर्णन हुआ है।

सूचना व फोटो आभार:   अश्विनी गौड़ 

 

* यह आलेख भवन कला संबंधी है न कि मिल्कियत संबंधी, भौगोलिक स्तिथि संबंधी।  भौगोलिक व मिलकियत की सूचना श्रुति से मिली है अत: अंतर  के लिए सूचना दाता व  संकलन  कर्ता उत्तरदायी नही हैं .

Copyright @ Bhishma Kukreti, 2020

रुद्रप्रयाग , गढवाल   तिबारियों , निमदारियों , डंड्यळियों, बाखलीयों   ,खोली, कोटि बनाल )   में काष्ठ उत्कीर्णन कला /अलंकरण ,

Traditional House Wood Carving Art (Tibari) of Garhwal , Uttarakhand , Himalaya ; Traditional House wood Carving Art of  Rudraprayag  Tehsil, Rudraprayag    Garhwal   Traditional House wood Carving Art of  Ukhimath Rudraprayag.   Garhwal;  Traditional House wood Carving Art of  Jakholi, Rudraprayag  , Garhwal, नक्काशी , जखोली , रुद्रप्रयाग में भवन काष्ठ कला,   ; उखीमठ , रुद्रप्रयाग  में भवन काष्ठ कला अंकन,  उत्कीर्णन  , खिड़कियों में नक्काशी , रुद्रप्रयाग में दरवाज़ों में उत्कीर्णन  , रुद्रप्रयाग में द्वारों में  उत्कीर्णन  श्रृंखला आगे निरंतर चलती रहेंगी

 

Copy Protected by Chetans WP-Copyprotect.