«

»

Feb
08

रांसी (रुद्रप्रयाग ) के एक भव्य जंगलेदार भवन संख्या 3 में गढवाली शैली की ‘काठ कुर्याणौ ब्यूंत’ की काष्ठ कला अलंकरण उत्कीर्णन अंकन

रांसी (रुद्रप्रयाग ) के एक भव्य जंगलेदार  भवन संख्या में गढवाली शैली की  ’काठ कुर्याणौ ब्यूंत‘ की काष्ठ कला अलंकरण उत्कीर्णन  अंकन

Traditional House wood Carving Art of  Ransi,  Rudraprayag         :

गढ़वाल, कुमाऊँ,उत्तराखंड की भवन (तिबारी, निमदारी, बाखली , जंगलादार  मकान ) में गढवाली शैली की  ’काठ कुर्याणौ ब्यूंत‘ की काष्ठ कला अलंकरण उत्कीर्णन  अंकन,- 405

 

संकलन - भीष्म कुकरेती 

-

रांसी ट्रैक में  कई भव्य काष्ठ कला अलंकरण युक्त भवनों की सूचना मिली है।  आज  रांसी के जंगलेदार  भवन संख्या  3   की  काष्ठ कला ,  अलंकरण , उत्कीर्णन पर चर्चा होगी।

रांसी (रुद्रप्रयाग ) का प्रस्तुत भवन संख्या ३  दुपुर है व दुखंड है।  भवन के भ्यूंतल (ground floor )  में ज्यामितीय कटान की काष्ठ कला विद्यमान है।   रांसी (रुद्रप्रयाग ) का प्रस्तुत भवन संख्या ३  में प्रथम तल पर छज्जा काष्ठ  से निर्मित है व छज्जे पर जंगला /raiing स्थापित है।  जंगला तीन भागों में विभक्त है।  जंगले में  दस से अधिक मुख्य  काष्ठ स्तम्भ स्थापित हैं।  ये स्तम्भ कलयुक्त हैं जिन पर कमल दल उत्कीर्णन से घुंडी /कुम्भी निर्मित हुयी हैं।  इन मुख्य स्तम्भों /खामों के आधार में दो ढाई फ़ीट की ऊंचाई में उप रेलिंग है व दो रेलिंग के मध्य  आयताकार चौकोर उप स्तम्भ हैं जो ज्यामितीय कटान के उदाहरण हैं।

निष्कर्ष निकलता है कि  रांसी (रुद्रप्रयाग ) का प्रस्तुत भवन संख्या ३ में ज्यामितीय व प्राकृतिक अलंकरण कला उत्कीर्णन हुआ है।  जंगल भव्य प्रकार का है।

सूचना व फोटो आभार:  सदा नंद  कामत 

* यह आलेख भवन कला संबंधी है न कि मिल्कियत संबंधी, भौगोलिक स्तिथि संबंधी।  भौगोलिक व मिलकियत की सूचना श्रुति से मिली है अत: अंतर  के लिए सूचना दाता व  संकलन  कर्ता उत्तरदायी नही हैं .

Copyright @ Bhishma Kukreti, 2021

रुद्रप्रयाग , गढवाल   तिबारियों , निमदारियों , डंड्यळियों, बाखलीयों   ,खोली, कोटि बनाल )   में काष्ठ उत्कीर्णन कला /अलंकरण ,

Traditional House Wood Carving Art (Tibari) of Garhwal , Uttarakhand , Himalaya ; Traditional House wood Carving Art of  Rudraprayag  Tehsil, Rudraprayag    Garhwal   Traditional House wood Carving Art of  Ukhimath Rudraprayag.   Garhwal;  Traditional House wood Carving Art of  Jakholi, Rudraprayag  , Garhwal, नक्काशी , जखोली , रुद्रप्रयाग में भवन काष्ठ कला,   ; उखीमठ , रुद्रप्रयाग  में भवन काष्ठ कला अंकन,  उत्कीर्णन  , खिड़कियों में नक्काशी , रुद्रप्रयाग में दरवाज़ों में उत्कीर्णन  , रुद्रप्रयाग में द्वारों में  उत्कीर्णन  श्रृंखला आगे निरंतर चलती रहेंगी

 

Copy Protected by Chetans WP-Copyprotect.