«

»

Feb
24

दियारी (कुटौली , नैनीताल ) के एक छाज में कुमाऊं शैली की ‘काठ कुर्याणौ ब्यूंत’ की काष्ठ कलाअंकन,अलंकरण, उत्कीर्णन

 

दियारी (कुटौली , नैनीताल ) के एक छाज में  कुमाऊं शैली की ‘काठ कुर्याणौ ब्यूंत’ की काष्ठ कलाअंकन,अलंकरण, उत्कीर्णन

Traditional House Wood Carving Art in  Diyari, Kutauli Nainital;

कुमाऊँ, गढ़वाल, केभवन ( बाखली,तिबारी,निमदारी, जंगलादार मकान,  खोली, )  में कुमाऊं शैली की ‘काठ कुर्याणौ ब्यूंत’ की काष्ठ कलाअंकन,अलंकरण, उत्कीर्णन  - 418

(प्रयत्न किया है कि आलेख में इरानी, इराकी , अरबी   शब्द न हों )

संकलन – भीष्म कुकरेती 

-

नैनीताल के दियारी गाँव जग प्रसिद्ध बाखली में काष्ठ उत्कीर्णन कला सर्जक  स्वर्गीय गंगा   राम के कारण प्रसिद्ध है।  समीर बिष्ट की प्रेरणा से इसी गांव में एक छाज की सूचना मिली है।  प्रस्तुत छाज  अलग से दिख रहा है।  छाज/ झरोखा  में दो छेद /ढुड्यार  हैं व उन ढुड्यारों  के ऊपर भी व निम्न ओर भी ढक्क्न हैं जो काष्ठ कला युक्त हैं।

छाज के नीचे एक  चौकोर आयताकार बौळी/शहतीर   है जिस पर पूरा छाज /झरोखा टिका है।  आयताकार  बौळी में आकर्षक उत्कीर्णन हुआ है।  बौळी में गोलाकार रेखाओं का आकर्षक रिखड़ा  अंकन हुआ है।  मध्य में किनारों पर  तीर के पीछे वाली आकृति अंकन हुआ है।

छाज में कुल  दो मुख्य स्तम्भ /सिंगाड़  हैं जो दो दो उप स्तम्भों या सिंगाड़ों के युग्म से निर्मित हुए हैं।   प्रत्येक उप स्तम्भ या उप सिंगाड़ों  में कला एक जैसे ही है।  उप स्तम्भ के आधार की कुम्भी अधोगामी पद्म पुष्प दल व ड्यूल व उसके ऊपर  ऊर्घ्वगामी पंकज पुष्प दल  से निर्मित हुए हैं व यही कला आकर स्तम्भ के ऊपर भी स्थापित हैं।  स्तम्भों में अन्य  प्राकृतिक आकार  भी अंकित है।

छाजों  के  ढुड्यारों ऊपरी  भाग में तोरणम कुर्याए /उत्कीर्णन हुआ है।  इन तोरणम में  चोटी / धमेली जैसे सर्पीली  लताओं  का अंकन हुआ है।

छाजों  के  ढक्क्न दो प्रकार के हैं।  ऊपरी भाग साधारण आधुनिक दरवाजों के पैनल जैसे हैं तो निम्न तलों में  हृदयाकार में लतायुक्त आकृतियां अंकन हुआ है।

निष्कर्ष निकलता है कि  दियारी में  प्रस्तुत   छाज में प्राकृतिक व ज्यामितीय कला अलंकरण अंकन हुआ है।

सूचना व फोटो आभार: अलाप ngo

सूचना प्रेरणा - समीर सिंह बिष्ट

यह लेख  भवन  कला संबंधित  है न कि मिल्कियत  संबंधी।  . मालिकाना   जानकारी  श्रुति से मिलती है अत: नाम /नामों में अंतर हो सकता है जिसके लिए  सूचना  दाता व  संकलन कर्ता  उत्तरदायी  नही हैं .

Copyright @ Bhishma Kukreti, 2021

Traditional House Wood Carving Art in Nainital; Traditional House Wood Carving Art in Haldwani,  Nainital;   Traditional House Wood Carving Art in  Ramnagar, Nainital;  Traditional House Wood Carving Art in  Lalkuan , Nainital;

नैनीताल में मकान काष्ठ कला अलंकरण, उत्कीर्णन ,  ; हल्द्वानी ,  नैनीताल में मकान  काष्ठ कला अलंकरण, ; रामनगर  नैनीताल में मकान  काष्ठ कला अलंकरण,  ; लालकुंआ नैनीताल में मकान  काष्ठ कला अलंकरण , उत्कीर्णन

 

Copy Protected by Chetans WP-Copyprotect.