«

»

Feb
25

अभिनेताओं तैं पुरष्कार की संस्कृति

अभिनेताओं तैं  पुरष्कार की संस्कृति 

भरत नाट्य शाश्त्र  अध्याय १ , पद /गद्य भाग ५३    बिटेन  ६३  तक

(पंचों वेद भरत नाट्य शास्त्रौ प्रथम गढवाली अनुवाद)

पंचों वेद भरत नाट्य शास्त्र गढवाली अनुवाद भाग – ८३

s = आधा अ

( ईरानी , इराकी , अरबी  शब्द  वर्जना प्रयत्न )

पैलो आधुनिक गढवाली नाटकौ लिखवार -   स्व भवानी दत्त थपलियाल तैं समर्पित

-

गढ़वळि  म सर्वाधिक अनुवाद करण वळ अनुवादक   आचार्य  – भीष्म कुकरेती   

-

इन सूणी  बरमा श्रीन बोलि  बल अब पुनः अभिनय कुण भलो समौ  ऐ गे। महेन्द्रौ  ये समय ‘ध्वज महोत्स्व’ चलणु  च।  त  ये खौळ -म्याळ  म  ये नाट्यवेद को प्रयोग करे जाव।  ५३, ५४ ।

तब वै  ध्वज महोत्सव (असुरों पर सुरों जीत महोत्सव ) म मीन सबसे पैल आशीर्वादात्मक वचन युक्त नांदी पाठ कार। या नांदी वेदों से निर्मित विचित्र अर आठ पदों वळि छे। नांदी पाठौ  उपरान्त मीन डिवॉन द्वारा असुरों पर जीत को  इन अभिनय (नाटक ) खिलण  शुरू कार जखम क्रोधपूर्ण वचन , भगदड़, मारकाट आदि युद्धार्थ का वास्ता आह्वावन युक्त छा।  ये प्रदर्शन तैं देखि बरमा श्री अर देवगण  संतुष्ट ह्वेन अर तब प्रसन्नचित बरमादि देवोंन सबि प्रकारौ (नाटक हेतु ) उपकरण  देनि। ५५ -५८ ।

दिबतौं  द्वारा भरत मुनि तैं  पुरष्कृत उपकरण -

सबसे पैल  प्रसन्न ह्वेक  इन्द्रन धज , बरमा श्रीन कूटलिक (ट्याड़ो -म्याड़ो डंडा जु  विदूषक प्रयोग करदन ), दे।

वरुणन झारी , सूर्यन छतर , शिवन  सिद्धि, वायुन पंखा,विष्णुन सिंघासन , कुबेरन मुकुट,  भगवती सरस्वतीन प्रेक्षणीय  (नाटकों तै सुणनो क्षमता )  दे।  यांक अतिरिक्त सभा म  जु बि  अन्य दिबता  , गंधर्व ,यज्ञ , रागस, पन्नग छा सब्युं न अति प्रसन्न हूंद म्यार  पुत्रों तैं  अपण अंशों से हूण वळ विभिन्न जाति व गुण  वळ रस , रूप , बल अर क्रिया  अर अनुरूप अलंकरण देनि। ५९ -६३ ।

 

 

-

 भरत  नाट्य शास्त्र अनुवाद  , व्याख्या सर्वाधिकार @ भीष्म कुकरेती मुम्बई

भरत नाट्य  शास्त्रौ  शेष  भाग अग्वाड़ी  अध्यायों मा

भरत नाट्य शास्त्र का प्रथम गढ़वाली अनुवाद , पहली बार गढ़वाली में भरत नाट्य शास्त्र का वास्तविक अनुवाद , First Time Translation of   Bharata Natyashastra  in Garhwali  , प्रथम बार  जसपुर (द्वारीखाल ब्लॉक )  के कुकरेती द्वारा  भरत नाट्य शास्त्र का गढ़वाली अनुवाद   , डवोली (डबरालः यूं ) के भांजे द्वारा  भरत नाट्य शास्त्र का अनुवाद ,

Copy Protected by Chetans WP-Copyprotect.