«

»

Feb
26

धूम्रपान वैदकी भाग – १

 

 धूम्रपान वैदकी भाग – १ 

चरक संहितौ सर्व प्रथम  गढ़वळि  अनुवाद  

 

(महर्षि अग्निवेश व दृढ़बल प्रणीत)

 खंड – १  सूत्रस्थानम , पंचौं  अध्याय १८  बिटेन  -३०  तक 

अनुवाद भाग -   ४२ 

गढ़वाली म सर्वाधिक  अनुवाद करण  वळ अनुवादक - भीष्म कुकरेती 

  (अनुवादम ईरानी, इराकी अरबी शब्दों  वर्जणो  पुठ्याजोर )

-

!!!  म्यार गुरु  श्री व बडाश्री  स्व बलदेव प्रसाद कुकरेती तैं  समर्पित !!! 

धूम्रप्रयोग  विधि -

मेहंदी बीज,प्रियंगु पुष्प,काळो जीरो,नाग केशर,नखी,नेत्रबाला,सफेद चंदन , तेजपात,दालचीनी,छुटि इलैची,खस, पद्माक,ध्यामक,मुलैठी,जटामासी,गूगल,अगर,शक़्कर,बड़ छाल (बक्कल ) ,गूलर छाल, पिलखन छाल, लोध छाल,जल मस्ट , राल,नागरमोथा, शैलेय,कमल केशर,श्रीवेटक , शल्लकी,शुकबयी, सब तै पाणी दगड़  पीसिक  आठ  अंगुळ  लम्बी बत्ती  बणाइक  सरकंडा म सुखाण।  फिर बत्ती  तै घीम मिलैक नित्य दिन धूम्र पान करण  चयेंद। १८ -२२ ।

चर्बी, घी,माँ , तै जीवननीय गणों दगड़  मिलैक बत्ती बणै क रुक्ष व्यक्ति धूम्रपान कारो।  यु धूम्रपान नित्य दिन लैक  नी  च। २३ ।

शिरम अवरुद्ध कफ दूर करणो  धूम्रपान -

अपराजिता,मालकंगनी,हरताल,मैन सिल,अगरु , कुष्ट,तगर, पत्रज,  पाणी  दगड़ पीसिक  बत्ती बणै सुखाई क धूम्र पान करण  चयेंद।  यु धूम्रपान शिरोविरेचन का वास्ता विरेचनिक धूम च। २४ ।

धूम्रपान गुण -

सिरौ भारीपन , मूंडरू,सरवेदना, नाक भीतर सूजन,अधकपाळी, कन्दू ड़ पीड़ा,आंख्युं दुखण,हिक्का,स्वास, दमा,स्वरभंग,दांतों दुर्बलता, कन्दूड़ -आंख -नाक बगण ,नाक -मुख बिटेन दुर्गंध आण, दांत दुखण ,भोजन से अरुचि, जिवडु / दांत जकड़न, गौळ जकड़न,कण्डू (इना उना  नि  हल सकण ),खज्जी , मुख पर पीलोपन ,बाळू झड़न , बालुं  लाल हूण , अति छिंकण ,  अळगस, बुद्धिजड़, मूर्छा, अति नींद आण आदि  धूम्रपान  से भला ह्वे जांदन।  बाळ, सर की हड्डी,आँख,कंदूड़ ,स्वर , गौळ तै बल मिल्दो।

बलवान  तै बी  बि वात , कफ से उत्तपन्न रोग -गौळ  से मथि , आंख , कान , नाक,  मुख , गौळ भितर , मुख  , मुंड संबंधी रोग  नि  हो का वास्ता धूम्रपान करण  चयेंद।   मुख से धूम्रपान  लीण  चयेंद अर नाक से भैर गडण  चयेंद।२५ -३० ।

 

*संवैधानिक चेतावनी : चरक संहिता पौढ़ी  थैला छाप वैद्य नि बणिन , अधिकृत वैद्य कु परामर्श अवश्य

संदर्भ: कविराज अत्रिदेवजी गुप्त , भार्गव पुस्तकालय बनारस

सर्वाधिकार@ भीष्म कुकरेती (जसपुर गढ़वाल ) 2021

शेष अग्वाड़ी  फाड़ीम

 

चरक संहिता कु  एकमात्र  विश्वसनीय गढ़वाली अनुवाद; चरक संहिता कु सर्वपर्थम गढ़वाली अनुवाद; ढांगू वळक चरक सहिता  क गढवाली अनुवाद , चरक संहिता म   रोग निदान , आयुर्वेदम   रोग निदान  , चरक संहिता क्वाथ निर्माण गढवाली

Fist-ever authentic Garhwali Translation of Charka  Samhita,  First-Ever Garhwali Translation of Charak Samhita by Agnivesh and Dridhbal,  First ever  Garhwali Translation of Charka Samhita. First-Ever Himalayan Language Translation of  Charak Samhita

 

Copy Protected by Chetans WP-Copyprotect.