«

»

Jul
02

कापकोट (बागेश्वर ) के एक भवन में कुमाऊं शैली; की काष्ठ कला अलंकरण, उत्कीर्णन अंकन

 

कापकोट (बागेश्वर ) के एक भवन  में कुमाऊं शैली; की काष्ठ कला अलंकरण, उत्कीर्णन अंकन

Traditional House wood Carving Art in Bageshwar, Kumaun

कुमाऊँ, गढ़वाल, के भवन(बाखली, तिबारी,निमदारी,जंगलेदार,मकान, खोली,कोटि बनाल)  में कुमाऊं शैली; की काष्ठ कला अलंकरण, उत्कीर्णन अंकन- 485

संकलन – भीष्म कुकरेती 

-

कापकोट का प्रस्तुत भवन दुपुर व दुखंड है।  भवन में काष्ठ कला विश्लेषण हेतु हमें तल मंजिल में दो कमरों के सिंगाड़ /स्तम्भों उनके मुरिन्डों  (header ). तल मंजिल से पहली मंजिल तक पंहुची खोली व पहली मंजिल के छाजों  पर ध्यान देना होगा।

कापकोट , बागेश्वर के प्रस्तुत भवन  में प्रथम तल या भ्यूंतल के दोनों कमरों के दरवाजों , सिंगाड़ों (स्तम्भों ) , मुरिन्डों (headers , शीर्ष ) में  ज्यामितीय कटान हुआ है व अन्य किसी तरह का अंकन नहीं हुआ है।

खोली के तल , सिंघाड़ों , मुरिन्डों  , तोरणम /मेहराब में भी ज्यामितीय सपाट कटान का ही कार्य हुआ है।

सभी छाजों के आधारिक ढकनों , सिंगाड़ों , तोरणम , शीर्ष /मुरिन्ड  में भी सपाट ज्यामितीय कटान हुआ है।

सभी खिड़कियों में भी स्पॉट कटान का काष्ठ कार्य दृष्टिगोचर हो रहे है।

निष्कर्ष निकलता है कि  भव्य शैली के प्रस्तुत कापकोट  के प्रस्तुत भवन में सब जगह  सपाट ज्यामितीय कटान से ही कार्य हुआ है और आकर्षक कार्य हुआ है ।

सूचना व फोटो आभार: : गिरधर पाठक 

यह लेख  भवन  कला संबंधित  है नकि मिल्कियत  संबंधी Iभौगोलिक  व मालिकाना   सूचना  श्रुति से मिलती है अत: नाम /नामों में अंतर हो सकता है जिसके लिए  सूचना  दाता व  संकलन कर्ता  उत्तरदायी  नही हैं .

Copyright @ Bhishma Kukreti, 2021

 

Copy Protected by Chetans WP-Copyprotect.