«

»

Sep
15

हरिद्वार , सहारनपुर , बिजनौर इतिहास संदर्भ में कत्यूरी युग : नरेश ललित शूर

हरिद्वार , सहारनपुर , बिजनौर इतिहास संदर्भ में   कत्यूरी युग :  नरेश ललित शूर                

 हरिद्वार , सहारनपुर , बिजनौर इतिहास संदर्भ में उत्तराखंड पर कत्यूरी राज भाग  – २५
Haridwar, History Bijnor,   Saharanpur History with reference  Katyuri rule -25 
Ancient  History of Haridwar, History Bijnor,   Saharanpur History  Part  -  327 

                           
हरिद्वार इतिहास ,  बिजनौर  इतिहास , सहारनपुर   इतिहास  -आदिकाल से सन 1947 तक-भाग -  ३२७                 


                  इतिहास विद्यार्थी ::: आचार्य भीष्म कुकरेती -

  कत्यूरी नरेश इष्टगण देव के पुत्र ललित शूर के दो ताम्रपत्र उपलब्ध हुए हैं  (२ ) ।  दोनों ललित शूर के ताम्रशासनों में ललित शूर व ललित शूर के पुरुखों की प्रशंसा हुयी है (२ )।  पहले ताम्रशासन में दूसरे  ताम्रशासन से दो श्लोक अधिक अंकित हैं (३ )।  ललित शूर की उपाधि दोनों ताम्रशासनों में परमभटारक महाराजधिराज परमेश्वर अंकन हुआ है (१ )।
 ललित शूर के ताम्र शासन में  ललित शूर ने अपने को परम महेश्वर परमब्रह्मण्य  घोषित किया है।  ललित शूर के ताम्र शासनों में ललित शूर को शौर्य -वीरातव में ललित शूर की समानता कीर्तिबीज , पृथु व गोपाल से की गयी है (२ )।
ललित शूर के ताम्रशासनों में पाल वंशजों के अभिलेखों का प्रभाव मिलता है (१ )।
ललित शूर के ताम्रशाशनों में ललित शूर के वंशज , राजयधिकारी व भूदानों का उल्लेख तो हुआ है किन्तु अन्य ऐतिहासिक घटनाओं का समावेश नहीं हुआ है (३ ) ।
संदर्भ :
  १- शिव प्रसाद डबराल ‘चारण ‘ ,  उत्तराखंड का इतिहास भाग ३ वीरगाथा प्रेस दुगड्डा , उत्तराखंड , पृष्ठ  ४५३
२- ललित शूर के ताम्रपत्र पृष्ठ  ५ व ६  
३ शिव प्रसाद डबराल ‘चारण ‘ ,  उत्तराखंड का इतिहास भाग  १  वीरगाथा प्रेस दुगड्डा , उत्तराखंड , पृष्ठ३७९
Copyright @ Bhishma  Kukreti 
हरिद्वार, बिजनौर , सहारनपुर का  कत्यूरी युगीन प्राचीन  इतिहास   अगले खंडों में , कत्युरी वंश इतिहास और हरिद्वार , सहारनपुर , बिजनौर , ललित शूर कत्यूरी राजा का ताम्रशासन , कत्यूरी ,  ललितशुर का चरित्र 
Copy Protected by Chetans WP-Copyprotect.