«

»

Oct
16

देवराड़ी बागेश्वर में स्व डी डी पंत के भवन में काष्ठ कला अलंकरण, उत्कीर्णन अंकन

देवराड़ी , भवन , काष्ठ कला 

  देवराड़ी बागेश्वर में स्व डी  डी  पंत के भवन में  काष्ठ कला अलंकरण, उत्कीर्णन अंकन
Tradiitonal House wood Carving Art in Bageshwar, Kumaun
कुमाऊँ, गढ़वाल, के भवन(बाखली, तिबारी,निमदारी,जंगलेदार,मकान, खोली,कोटि बनाल)  में कुमाऊं शैली; की काष्ठ कला अलंकरण, उत्कीर्णन अंकन- 529संकलन – भीष्म कुकरेती 

-

जनपद बागेश्वर के देवराड़ी में  कुमाऊं विश्व विद्यालय के प्रथम कुलपति स्व डी डी पंत के भवन  दुपुर है।  तल मंजिल में खोली शुरू होती है।  तल मंजिल गौशाला व भंडार हेतु सुरक्षित है।  इन कक्षों में सिंगाड़ (स्तम्भ ) , कड़ियाँ सपाट हैं (ज्यामितीय अलंकरण उदाहरण )।

खोली के स्तम्भों में कमल दलों  के अंकन से से घुंडी निर्मित हुयी हैं व दो घुंडियों के मध्य ड्यूल भी है।  ऊपर मुरिन्ड /मथिण्ड /header में तोरणम भी ज्यामितीय कटान का सपाट संरचना है।  तोरणम के स्कंध में कोई अंकन नहीं दिख रहा है।  ऊपर की कड़ियों में जाली व लड़ियों का अंकन हुआ है।

खोली के मुरिन्ड/शीर्ष  के ऊपर के पांच  चौखटों में अलग देव व पक्षी अंकित हुए हैं।  दो चौखट वर्ग में मयूर , एक चौखट में गणपति , व दो चौखटों में देव अंकन हुआ है। 

जनपद बागेश्वर के देवराड़ी में  कुमाऊं विश्व विद्यालय के प्रथम कुलपति स्व डी डी पंत के भवन के पहले  मंजिल में तीन जोड़ी छाज हैं।  प्रत्येक छाज के सिंगाड़ों /स्तम्भों की कला खोली की सिंगाड़ों की प्रतिरूप ही है।  छाजों के तोरणम /मेहराब के स्कंध भी स्पॉट संरचना वाले ही हैं।  

छाजों के निम्न तल की संरचना में जालीदार/छेद  युक्त  संरचनाएं भी सपाट हैं।

जनपद बागेश्वर के देवराड़ी में  कुमाऊं विश्व विद्यालय के प्रथम कुलपति स्व डी डी पंत के भवन कला दृष्टि व अंकन दृष्टि उत्कृष्ट है व इसमें प्राकृतिक , ज्यामितीय व मानवीय अलंकरण लिए हुए हैं।

सूचना व फोटो आभार: सोनु  पाठक (FB )  

यह लेख  भवन  कला संबंधित  है नकि मिल्कियत  संबंधी Iभौगोलिक  व मालिकाना   सूचना  श्रुति से मिलती है अत: नाम /नामों में अंतर हो सकता है जिसके लिए  सूचना  दाता व  संकलन कर्ता  उत्तरदायी  नही हैं .

Copyright @ Bhishma Kukreti, 2021

कांडा तहसील , बागेश्वर में परंपरागत मकानों में   काष्ठकला अंकन  ;  गरुड़, बागेश्वर में परंपरागत मकानों में काष्ठकला अंकन  ; कपकोट ,  बागेश्वर में परंपरागत मकानों में काष्ठकला अंकन )

Copy Protected by Chetans WP-Copyprotect.