«

»

Oct
22

जखोल (उत्तरकाशी )  के भवन में काष्ठ  कला,  अलकंरण, अंकन उत्कीर्णन

  जखोल (उत्तरकाशी )  के भवन में  काष्ठ  कला,  अलकंरण, अंकन उत्कीर्णन
  जखोल , उत्तरकाशी , भवन,  काष्ठ कला   

  Traditional House wood Carving Art in , Jakhol ,   Uttarkashi

गढ़वाल,  के भवन  (तिबारी, निमदारी , जंगलादार मकान , बाखली  , खोली  , कोटि बनाल )  में पारम्पपरिक    गढवाली शैली  की    काष्ठ  कला,  अलकंरण, अंकन उत्कीर्णन - 535

 

 संकलन – भीष्म कुकरेती 

-

 जखोल यात्रा पंक्ति में होने के कारण यात्री इन जगहों की फोटो लेकर सोशल मीडिया में पोस्ट कर ते हैं।  भवन स्वामित्व की जानकारी न मिलने से कमी तो रह जाती है किन्तु चित्र मिल ही जाते हैं। 

प्रस्तुत जखोल के  चित्र में चार पांच भवनों के चित्र दृष्टिगोचर हो रहे हैं।  सभी भवनों की एक विशेषता है कि भवनों की दीवारें सभी काष्ठ की हैं।  भवन निर्माण शैली ७०० -८०० वर्ष प्राचीन आदि शैली के हैं।  छतें कुछ बदली हैं जैसे चददर की छतें।  

एक भवन जो पूरी तरह से दृष्टिगोचर हो रहा है में बालकोनी है व बालकोनी को आधार में लकड़ी पटिलों (तख्तों ) से ढका गया है।  व बाहर की ओर स्तम्भ भी हैं।  सभी कला सपाट ज्यामितीय कटान , अलंकृत कला है है। 


सूचना व फोटो आभार : विक्रम सिंह  रावत  (FB ) 

यह लेख  भवन  कला संबंधित  है न कि मिल्कियत हेतु . भौगोलिक ,  मालिकाना   जानकारी  श्रुति से मिलती है अत: अंतर हो सकता है जिसके लिए  सूचना  दाता व  संकलन कर्ता  उत्तरदायी  नही हैं .

Copyright @ Bhishma Kukreti, 2021

Traditional House Wood Carving Art (Tibari, Nimdari, Bakkhali,  Mori) of   Bhatwari, Uttarkashi Garhwal,  Uttarakhand ;   Traditional House Wood Carving Art (Tibari, Nimdari, Bakhali,  Mori) of  Rajgarhi, Uttarkashi,  Garhwal,  Uttarakhand;   Traditional House Wood Carving Art (Tibari, Nimdari, Bakkhali,  Mori) of  Dunda, Uttarkashi,  Garhwal,  Uttarakhand ;   Traditional House Wood Carving Art (Tibari, Nimdari, Bakhali,  Mori) of  Chiniysaur, Uttarkashi ,  Garhwal ,  Uttarakhand ;  पारम्परिक   उत्तरकाशी मकान काष्ठ  कला,  अलकंरण- अंकन  , भटवाडी मकान   ,  पारम्परिक , रायगढी    उत्तरकाशी मकान  काष्ठ  कला,  अलकंरण- अंकन, चिनियासौड़  पारम्परिक  उत्तरकाशी मकान  काष्ठ  कला,  अलकंरण- अंकन  श्रृंखला जारी

Copy Protected by Chetans WP-Copyprotect.