«

»

Aug
18

डेल कार्नेजी : ‘हाउ टु विन फ्रेंड्स एंड इन्फ्लुंस पीपल’ को प्रसिद्ध लिखवार

Mangament Guru -11

प्रबंध शास्त्री – 11

डेल कार्नेजी : ‘हाउ टु विन फ्रेंड्स एंड इन्फ्लुंस पीपल’ को प्रसिद्ध लिखवार

Dale Carnegie : Famous For ‘How To Win Friends and Influence People

( Notes on Management Theories from Old age till date, Notes on Managemnt Thinkers and

Management Practices, Management Gurus, Marketing management Guru, Qaulity Mangement Guru,

Operation Managemnt Guru )

Bhishm Kukreti

डेल कार्नेजी (१८८८-१९५५ ) क जनम एक गरीब किसाण को ड्यर ह्व़े . अपण पच्छ्याणक बणोणे वास्ता कार्नेजी वाद विवाद

प्रतियोग्यताऊं हिस्सा लींद छ्याये अर पैथ्रां वो सब्बी प्रतियोग्य्तौ तैं जितत गे . पैल कार्नेजी सेल्स मैन, फिर वैन अपण बुजिनेस शुरू कार पण

दुयूं मा कामयाबी हासिल नि ह्व़े. फिर वैन कमीशन मा एक कोचिंग क्लास मा ‘पब्लिक स्पीकिंग कौर्स’ पढ़ाण शुरू कार. पैसा ट जादा नि मिलेन

पण ये क्षेत्र मा वैको नाम ह्व़े गे . अर फिर वैन ‘पुब्लिक स्पीकिंग कोर्से ‘से नाम अर डाम कमें. १९३६ मा डेल कार्नेजी की किताब ‘हौ टु विन फ्रेंड्स एंड इन्फ्लुएंस पीपल’

क्या छप कि कार्नेजी को नाम दुनिया प्रसिद्ध हूण लगी गे . तब बिटेन आज तक ‘हौ टु विन फ्रेंड्स एंड इन्फ्लुएंस पीपल’ किताब कि लाखों कापी बिकी गेन.

आज बि लोग ‘हौ टु विन फ्रेंड्स एंड इन्फ्लुएंस पीपल’ तैं टक्क लगे क बांचदन .

दगड्या कन बणोण अर लोखुं पर कने असर/प्रभाव डालण का नियम

अ- छै (६) नियम जां से लोक तुम तै पसंद कारन

१- इन दिखाओ बल तुम हैंक मा रूचि दिखाणो छवां /मतलब हैंक तैं लगण चएंद बल तुम वैकी फिकर करणा छवां

२- खुश मिजाजी , सकारात्मक अर ख़ुशी से बचळयाओ या सकारात्मक , खुस अर खुश मिजाज राओ

३- लोगूँ तैं ऊंक नाम से भट्याओ/ पुकारो

४- लोगूँ बात जादा सुणो अर सुणणे आदत डाल़ो

५- लोगूँ (जु समणि च) बारा मा जादा ब्वालो अपण बारा मा कम से कम बवालों

६- दूसरों तैं सही महत्व द्याओ अर समणि वाळ तैं लग ण चएंद तुम वै तैं महत्व दीणा छ्न्वां

ब- बारा (१२) नियम कि लोग तुमर तरां घड्याण/सुचण/सोचना लगी जान्दन:

१- फोकट/अनावश्यक क घपरोळ /विवाद से बचो

२- दुसरो विचार/धारणा टक्क लगैक सुणो अर दुसर तैं इन कबि बि नि ब्वालो कि वो गलत च

३- गलती ह्वाऊ त अपण गलती तैं स्वीकार कारो

४- दगड्या पन /दोस्तानापन दिखाओ . हैंक तैं लगण चएंद बल तुम वैको दगड्या/दोस्त छवां

५- इन बवालों कि दुसर तुमर दगड ह्व़े जाओ

६- हैंक मनिख/मनिख्याणि तैं जादा बुलणो मौक़ा द्याओ अर अफिक कम कम से कम ब्वालो

७- हैंक तैं लगण चएंद ई विचार वैका छन

8- दुसर क विचारूं तैं महत्व द्याओ

9- दुसरो विचार अर इच्छा कि पूरी कदर कारो

१० – अप ण विचारूं मा कुछ ड्रामा डाल़ो मतबल विचारूं मा कुछ खौंळयाण/आश्चर्य वळी बात हूण चयेंद

११ – दूसरों भली आदत को बारा मा ब्वालो

१२- आखिरैं, बात मा कुछ चैल्लेंज /ललकार हूणि चएंद

लोगूँ मा बदलाव लाणो ९ नियम

१- लोगूँ सै बडे जरुर कारो अर लोगूँ कि सराहना करो

२- लोगूँ की गलती पर ध्यान देर से लाओ याने गलती क बारा मा पैल नी ब्वालो

३- पैल अपणी गलती बथाओ फिर दूसरों गलती क बारा मा ब्वालो

४- सीधा निर्देस/ऑडर नी द्याओ बलकण पैल सवाल कारो

५- लोगूँ बेज्जती नी कारो बलकण मा दुसर तैं गर्व महसूस करण द्याओ

६- दूसरों तैं उत्साहित कारो , उलार द्याओ . सुधार हूणो बाद लोगूँ क सही मा बड़ें कारो

७- लोगूँ तैं आदर द्याओ

८- लोगूँ तैं सांत्वना द्याओ, लोगूँ तैं प्रोत्साहन द्याओ कि काम भौत सरल च .

९- लोगूँ तैं इन लगण चएंद कि यो ऊंको ही काम च अर लोगूँ तैं काम मा ख़ुशी/लाभ/फैदा दिखाओ

मन जिताऊ बुळणो कौंळ /कला , ब्युंत/तरीका

१- शुरू मा क्वी धमकादार उदाहरण दयावो

२- इन बात कारो बल लोग ध्यान दीण बिसे जावन , इन बात कारो कि लोक टक्क लगैकी सुणण बिसे जावन

३- लोगूँ तैं पूछो अर लोगूँ तैं हाथ खड़ करणो उकसाओ

४- बात इन कारो कि जखमा प्रदर्शनी जन भाव ह्वावन

५- बीच बीच मा कुछ सस्पेंस वाळी बात बि कारो

६- लोगूँ तैं भरवस होंण चएंद कि वो चावन तो वांछित काम ह्व़े जालो या

लोगूँ तैं लग ण चएंद बल अगर लोग चावन त उंकी इच्छा पूरी ह्व़े जाली

Books by Dale Carnegie

1- How to Win Frieds and Influence People, 1994

2-How to Enjoy Your Life and Your Job, 1990

3- How to Stop Worrying and Start Living , 1990

आज बि इथगा सालुं बाद डेल कार्नेजी क किताब खूब बिकदन

Management Guru Series to be Continued on Part 12th

हैंको Management Guru का बारा मा फड़कि -12 मा बाँचो

Copyright @ Bhishm Kukreti

Copy Protected by Chetans WP-Copyprotect.