«

»

Aug
16

बहुत याद आती है..

धानी धान के खेतों से
महकती महक चावल की,
शिव श्रावण पूजने जाती
झनक कन्या की पायल की,
गौरैय्या के चींचींयाने की
बहुत याद आती है,
सहन में सूखते दानों की
जो दावत उडाती थीं।

अकसर उस जमाने की
बहुत याद आती है
खुली आँखों के सपनों में
मुझे बचपन घुमाती है ।

हवा बारिश के मौसम में
घर से निकल जाना,
बगीचों से गुजर जाना
आम ’टपके’ के भर लाना,
गालियों की वो बौछार
अकसर याद आती है
फलों की चोरी पर जो
कहीं से दनदनाती थी ।

अकसर उस जमाने की
बहुत याद आती है
खुली आँखों के सपनों में
मुझे बचपन घुमाती है ।

लगता मुट्ठी में बंद सा
वक्त फिसला पर रेत सा
यादों की धुंधली बदलियाँ
साया लगती प्रेत सा
अकसर उस पैमाने की
बहुत याद आती है ,
साकी की मानिंद जो
तुम आँखों से पिलाती थी

अकसर उस जमाने की
बहुत याद आती है
खुली आँखों के सपनों में
मुझे बचपन घुमाती है ।

(मेरी नव प्रकाशित पुस्तक “साँस साँस जीवन ” से
Mob: 9427345810)

Copy Protected by Chetans WP-Copyprotect.