«

»

Aug
20

गढ़वाल कि विभूतियाँ 22 Bawan garh गढवाळ मा 52 से बिंडी गढ़ी

गढवाळ का नामी गिरामी लोक अर जाती(मलारि जुग बिटेन अब तलक ) फड़क -22

गढ़वाल कि विभूतियाँ व समाज (मलारी युग से वर्तमान तक ) भाग 22

Great Garhwali Personalities and Societies of Garhwal Part -22

भीष्म कुकरेती (Bhishm Kukreti )

गढवाळ मा 52 से बिंडी गढ़ी (1250-1450 AD)

क्राचल्ल या वैक उत्तराधिकार्युं राज खतम हूणओ उपरान्त गढवाळ-कुमाऊं मा जगा जगा छ्व्ट छ्व्ट राजा ह्व़े गेन जौन तैं गढ़पति बुले जांद थौ. असल मा य़ी गढ़पति अपण अपण क्षेत्र का सूबेदार/सामंत/मांडलिक छ्या जु बाद मा सोतांतर ह्व़े गेन.डा शिव प्रसाद न जख ८० का करीब गढ़पत्युं का गढ़ूं नाम बताएं उख डा चौहान न १२६ से बिंडी गढ़ूं नाम देनी .असल मा य़ी गढ़पति अपण अपण क्षेत्र का सूबेदार/सामंत/मांडलिक छ्या जु बाद मा सोतांतर ह्व़े गेन.

गढ़ूं नाम अच्काल का परगना

गढ़ तांग , पैनखंडा खाड, दशौली टकनौर, पैनखंडा, दशौली

बधाण, चांदपुर, चौड़ ,तोप, राणीगढ़, लोहाब, धौना, बनगढ़, कांडा, गुज्डू , साबली, बधाण, चांदपुर, मल्ला सलाण

उल्का, एडासु, देवल, नयाल, कोल्ली, धौना, , बन , कांडा, चौन्दकोट देवलगढ़ बारहस्यूं , चंद्कोट, देवलगढ़ बारहस्यूं , चंद्कोट

माबगढ़, बाग़, अजमेर, श्रीगुरु तल्ला सलाण

मवाकोट, गड़कोट, भैरों गढ़, घुघती गढ़ , ढागु गढ़ , जोर, बिराल्टा, सिल गढ़ , गंगा सलाण, भाबर, नरेन्द्रनगर, देहरादून

बदलपुर, लालढांग, चांडी, सान्तुर, कोला, शेर, नानोर, नाला, बीरभद्र, मोरध्वज,

पत्थर गढ़ , कुजणी, रत्न, कवीला (कुइली) , भरपूर,

जोर, बिराल्टा, सिल गढ़, मुंगरा, सांकरी, बडकोट, डोडराक्वांरा , रामी जौनपुर, रवाईं. महासू, शिमला

नागपुर, कंडारा, नागपुर

उल्का, एडासु, देवल, नयाल, कोल्ली, धौना, , बन , कांडा, चौन्दकोट देवलगढ़ बारहस्यूं , चौदकोट

उप्पू,मौल्या, रैन्का, बागर, भरदार, संगेला पश्चमी पठार, (टिहरी)

यांक अलावा गाथाओं मा

मलुवाकोट, अमुवाकोट, कल्निकोट, रामोलिगढ़, लोहानिगढ़, कत्युर गढ़ , कोककोट, कलावती कोट, नंदनी कोट, धरनी गढ़ , मलसिगढ़, कोतली गढ़, भानी कोट, चांडी कोट, जण गढ़युं को नाम बि आन्दन

सजनसिंह : सजनसिंह नागपुर गढ़ को आख़री गढ़पति थौ

दिल़ेबर सिंह : लोहाब गढ़ को गढ़पति छौ

प्रमोद सिंह : इन बुले जान्द बल प्रमोद सिंह लोहब गढ़ को गढ़पति छौ

देवल : इन बुले जान्द बल देवल न देवल गढ़ की स्थापना करी छे

घिरवाण : इन माने जान्द बल बागर गढ़ मा घिरवाण खशपत्युं राज राई

कफ्फु चौहान : भड़ /बीर कफ्फु चौहान उप्पुगढ़ को गढ़पति राई

भूप सिंह : इन बुले जांद बल भूप सिंह जौनपुर गढ़ को आखरी गढ़ पति थौ

Reference: Dr Shiv Prasad Dabral, Uttarakhand ka Itihas -3 ( History of Uttarakhand – 3

History of Garhwal, History of Kumaun )

बकै खंड 23 मा बाँचो

To be continued in 23nd Part ..

  • Sona Kshatry

    Bhai katyri gad ka naam kya gad katyuro tha.kya yaha par malla log rahate the.mujhe janakari de hamari kul ki kahani mai gad katyuro ka jikra hota hai jaha malla log rahate the.

  • Sona Kshatry

    Mujhe gad katyuro ke baremai janakari de jaha malla log raate the.jaha se tin bhai gad katyuro chhod kar shanti se raane ke liye jagah talas karne gaye the.unka kya huwa

Copy Protected by Chetans WP-Copyprotect.