«

»

May
04

आजौ रेफ्रिजिरेटर खरीदण अर वै बगतौ फ्रिज लीण। भाग- 2

गढ़वाली हास्य -व्यंग्य
सौज सौज मा मजाक मसखरी
हौंस,चबोड़,चखन्यौ
सौज सौज मा गंभीर छ्वीं
आजौ रेफ्रिजिरेटर खरीदण अर वै बगतौ फ्रिज लीण। भाग- 2

चबोड़्या – चखन्यौर्या: भीष्म कुकरेती
(s = आधी अ )

अचकाल रिफ्रिजिरेटर लीण सरल च पण प्रक्रिया अबि जरा टेड़ी च। ग्राहक एक अर बिचण वाळ सौ। अनार एक अर बीमार सौ। कुर्सी एक अर कुर्सी हकदार सौ।
हम तै अपण पुरण फ्रिज से क्वी सिकैत नि छे। म्यरो पुरण फ्रिज तै इ हम से नाराजी ह्वे गे। पुरण फ़्रिजौ बुलण छौ बल या बि क्वी बात ह्वे कि वो इं उमर मा सात सात दिनु बासी खाणक कि गंध सुंगणु रावो। चलो बासी कूसी भोजन की गंद बास तो सहन करि ल्यालो पण जख स्यूण (सुई ) बान जगा नि ह्वावो उख सब्बळ त नि कुच्याण चयेंद कि ना! पुरण फ्रिजो बुलण छौ बल हमर परिवार बढ़ी गे तो हम अपण परिवारौ बोझ पुरण फ्रिज पर किलै डाळणा छंवां। अति बोझ की पीड़ा से फ्रिज रोज क्या हर समौ घर्र घर्र करीक सुसकारी भरदो छौ अर हम समजदा छा कि हमर फ्रिज अपण लोक गीत गाणु च। जब कबि फ्रिज गीत गाण बंद करी दींदु छौ त हम फ़्रिजौ डाक्टर बुलांदा छा। कुछ दिन तलक फ़्रिजौ डाक्टर की मलास, छ्वटि -म्वटि सर्जरी अर पट्टी -बैंडेज से फ्रिज होश मा आंदो छौ पण अखिरैं डाक्टरन बि जबाब दे द्यायि अर हमकुण भगवान से प्रार्थना की सलाह दे।बस हम रोज फ्रिज की लम्बी उमरौ बान भगवान से प्रार्थना करदा छा। एक दिन बोझ का मारा हमर पुरण फ्रिजन इलेक्ट्रिक शौक से खुद ही ख़ुदकुशी करी दे। हम फ़्रिजौ फेमिली डाक्टरम बि गेंवां पण हमर फ़्रिजौ फेमिली डाक्टरन आण से इनकार करि दे अर फिर पछ्याणको कबाड़ीन ही फ़्रिजौ दाह संस्कार कार
पुरण फ्रिज जाणो बाद हम ठंडो पाणी जगा सादो पाणि पीणों तयार छया पण हम से ताजो खाणक नि खाये गे। हमर जीबि मा बासी तिबासी खाणक खाणों स्वाद बैठी गे छौ। तो बासी भोजन प्रेमी परिवार का सदस्योंन प्रजातांत्रिक ढंग से मि तै आज्ञा दे कि मि फ्रिजुं प्रिलिमिनरी सर्वे करिक औं।
मि ऐत्वारो खुण चार पांच बड़ी दुकानुंम फ्रिज दिखणो ग्यों अर अर्ध मुर्छित अवस्थाम बड़ी मुस्किल से घौर बौड़। एकी कंपनी का बीस साइज का फ्रिज , एकी साइज मा बीस किस्मौ टेक्नौलौजी का अलग अलग फ्रिज! फिर हरेक फ्रिज की विशषता वास्ता भिन्न भिन्न अलंकृत भाषा का इस्तेमाल करण वाळ पैम्फलेट देखिक मि रंगतै ग्यों। मै लग मि फ्रिज नि दिखणु छौं बलकणम विज्ञापनों मा नाट्य काव्य पढ़णु हों अर दृश्य काव्य दिखणु हों। जो आज विहारी कवि ज्यूँद होंद तो विज्ञापनों अलंकार पौढिक विहारीन हीन भावना ग्रसित ह्वेक आत्महत्या करि लीण छौ। तीन चार सौ किस्मौ फ्रिज देखिक मि चचलै ग्यों अर सही माने मा घंघतुळे ग्यों याने कन्फ्यूज ह्वै ग्यों। एकी दूकानम अलग अलग साइजो अर टेक्नीक का वास्ता अलग अलग सेल्समैन छया। अर हरेक सेल्समैन अपण ब्रैंड, अपण साइज अर अपण टेक्नौलौजी की प्रशंसा मा उथगा तल्लीन नि छौ बल्कणम हैंको ब्रैंड, हैंको साइज अर हैंकि तकनीक की हद से बिंडी बुरै करण मा उस्ताद छया। हरेक सेल्समैन समजाण से जादा मि तैं कन्फ्यूज करणम बड़ी मेनत करणु छौ। हरेक सेल्समैनन म्यरो फोन नम्बर नोट कार।
मि घंघतुळे, घबरै घौर औं। घौर वाळ मेरि घबराट देखिक दुकनि बिटेन ठंडो मिनरल वाटर लैन। अब हमर बिल्डिंग वाळ मोडर्न ह्वे गेन तो एक हैंकाक इखन ठंडो पाणि मंगणम अपणी बेज्जती अर तौहीन समजदन।
एकाद घंटा मा मेरी तबियत सुधरी। अर इना मेरि तब्यत सुधरि उना नाना प्रकार की फ्रिज कंपन्यूं अर फाइनेंस कंपन्यूं फोन आण बिसे गेन।
इखम बि हेरेक कम्पनी क अलग अलग साइज अर टेक्नौलौजी क विभाग से अलग अलग फोन ऐन अर हरेक कॉलर अपण साइज या टेक्नौलौजी प्रशंसा नि करणों छौ बलकणम दुसर साइज अर दुसर टेक्नौलौजी की बुरी तरह से काट करणु छौ अर इथगा काट त भारतीय जनता पारी कौंग्रेस की काट नि करदी जथगा काट एकि कंपनि क कॉलर अपणी कम्पनी क दुसर साइज अर हैंकि टेक्नौलौजी की काट करणु छौ।
फाइनेंस कम्पनी वाळ बि अपण फिनैंस स्कीम की प्रशंसा नि करणा छा बलकणम दुसर फिनैंस कम्पन्यूं स्कीमुं कमजोर पक्ष की ऐसी तैसी करणा छा।
अर कम्पन्यूं ऑफिस से अर फिनांस कंपन्यूं फ़ोनों से अब मेरो सरा परिवार वाळ घंघतुळे,घबरै, गलत फहमै, कनफ्युजे गेन। कैक बि समज मा नि आई कि कै साइजौ अर कैं टेक्नौलौजी फ्रिज लिए जावो।
हमन बिल्डिंग अर हौर दोस्तों , ए शहर इ ना बलकणम दुसर शहरों रिश्तेदारों से बी सलाह ले कि कु फ्रिज लिए जावो।
पण दगड्या – दोस्तों अर रिश्तेदारों न सलाह दीण से हम सब्युं तै जादा ही घबरै गवाँ।
सबि इन नि बथावन कि कु रेफ्रीजेरेटर लीण बलकणम इन जरुर बथावन कि कु कु फ्रिज नि लीण।
एक दगड्यान बोलि बल अलण फ्रिज कतै नि खरीदेन अलण फ़्रिजौ कूलिंग तकनीक बेकार च। म्यार सडो भायिक समदिक स्याळो भणजौ चचान ओ फ्रिज खरीद छौ आज तलक ठंडो पाणि पड़ोसी से ही मांगदन बिचारा! तुम इन कारो फलण रेफ्रिजिरेटर खरीदो।
त एक रिस्तेदारन चेतावनी दे बल नै नै ! फलण रेफ्रिजिरेटर कतै नि खरीदण’. फलण फ़्रिजौ कूलिंग कैपेसिटी त ठीक च पण इंसुलेटिंग भौत इ रद्दी च। पांच साल पैल म्यार बडाक नन्या ससुरौ झड़नति क जीजान अलण रेफ्रीजेरेटर खरीदी छौ त आज तक पछताणा छन।
इख पर हैंक दोस्तन घ्याळ करी दे बल स्यु ब्रैंड कतै नि खरीदण, ये ब्रैंड की सर्विस बेकार च । मेरी मौसिक जिठाणि ममाक साडो भयिक नातिन स्यु ब्रैंड खरीद छौ आज तलक वूं कम्पनी सर्विस सेंटरौ पता अर फोन नम्बर खुज्याणा छन।
दफ्तरम एक होशियार मने जाण वळ सहयोगीन बथाइ बल अलण ब्रैंड की कूलिंग कैपेसिटी ठीक च पण इंसुलेटिंग टेक्नीक खराबच, वै ब्रैंड की इन्सुलेटिंग ठीक च पण जगा की कमी च, …सतों ब्रैंड की सर्विस ठीक च पण टेक्नौलौजी पुराणी च, अठों ब्रैंड की टेक्नौलौजी लेटेस्ट च पण ब्रैंड को नाम गंदो च।
जथगा लोग उथगा इ कु कु ब्रैंड नि लीणो चेतावनी!
आखिरैं हमन अपण पुरण फ़्रिजौ डाक्टर याने फ्रिज मैकेनिक की सलाह सेवा ल्यायि।
अब रेफ्रिजिरेटर त ऐ ग्यायि पण हम कै तैं नि बथान्दा कि हमन नै रेफ्रीजेरेटर खरीदी किलैकि यु रेफ्रिजिरेटर मेकैनिक द्वारा असेम्बल्ड फ्रिज च।

Copyright @ Bhishma Kukreti 4/05/2013
(लेख सर्वथा काल्पनिक है )

Copy Protected by Chetans WP-Copyprotect.