«

»

May
06

गढवाळम शराब का मामला मा जनता कॉंग्रेस अर भाजपा दुयुं से भौत इ नाराज च

गढवाळम शराब का मामला मा जनता कॉंग्रेस अर भाजपा दुयुं से भौत इ नाराज च

हंसोड्या , चुनगेर ,चबोड़्या -चखन्यौर्या -भीष्म कुकरेती
(s =आधी अ = अ , क , का , की , आदि )

(पौड़ी ) हमर संबाददाता कुबोलिकन खबर देकि शराब विषय लेकि उत्तराखंड जनता सभी राजनैतिक दलों से भौत इ गुस्सा च अर ह्वे सकद च कि यांक असर चुनावुं पर बि दिखणो अवश्य मीलल।
हमर टिहरी ग्रामीण रिपोर्टर खन्नु खरपटन गांवुं मा घूमिक पता लगाइ तो पाइ कि जनता मा आक्रोश का वजै से लोगुन झंग्वर नि बोयी।
इख तलक कि पौड़ी संसदीय सीट का झंग्वर बूण वाळुक बुलण च कि चूँकि कॉंग्रेसी ऐजेंटुन चुनाव से पैल आश्वासन दे छौकि ठीक चुनाव तिथि घोषित हूण पर हळयों वास्ता व्हिस्की पौंछि जालि। पर कॉंग्रेस ऐजेँटुं द्वारा गांवु मा शराब नि पौंछाण से हळया बीमार पौड़ी गेन। वास्तव मा अब गढवाळम क्वी बि हळया बगैर शराब पियां एक सी बि बै नि सकुद , यदि हळया बगैर शराब पियां हौळ लगांद तो वैक सांस फूलि जांद। कॉंग्रेसी ऐजेँटुं शराब बितरण कु आश्वाशन का कारण लोगुन शराब का स्टॉक नि कार अर बार बगत पर कॉंग्रेसी एजेंट बुलणा छन कि सतपाल महाराज का ऐजेँटुंन मुफ्त मा शराब देणो आश्वाशन दे छौ ना कि हड़क सिंग का लोगुंन। यांसे जु लोग कॉंग्रेस की शराब की आस मा छया वु निरास हुयां छन। सतपाल महाराज का चमचा बुलणा छन कि चूँकि सतपाल जी चुनाव नी लड़णा छन तो शराब बितरण क्यांक ? चुनावुं टैम पर मुफ्त की शराब नि मिलण से जनता मा हाहाकार मच्युं च। लोगुं बुलण च कि चुनावुं मा मुफ्त मा शराब नी मीलली तो कब मीलली ? जन आक्रोश का यी हाल छन कि लोग कॉंग्रेसी एजेंटो चुनावी सभा मा नि जाणा छन अर यांसे भ्रम फ़ैलणु च कि लोग राहुल गांधी तैं प्रधान मंत्री बणाणो विरोध मा छन। शायद चुनाव से द्वी चार दिन पैलि सब जगा शराब की खेप पौंचि जालि तो कॉंग्रेस की हालत मा सुधार होलु।
हरिद्वार अर टिहरी संसदीय क्षेत्र मा भाजपा की हालत हारणै जन हुईं च। लोग बुलण बिसे गेन कि इख मोदी लहर छैं इ नी च।
असल मा क्या हरिद्वार क्या पहाड़ ! बामण अब बगैर शराबौ आचमन लियां अर बगैर शराबौ कुळळा कर्या पूजा पाठ नि करदन अर बगैर शराब पियां बामणु गिच से एक बि श्लोक नि आंदन। चुनाव से पैल भाजपा का एजेंटोंन प्रॉमिसरी नोट भेजि छौ कि पंडितों तैं मुफ्त शराब बांटणो जिम्मा भाजपा कु रालु अर यांसे जजमान दारु नि लाणा छन। अब शराब पियां बगैर बामण हिट नि सकदन अर मेन टैम पर भाजपा वाळुन शराब नि भेजि तो सब जगा शादी ब्यौ , तिरैं -बरखी की तिथि अग्वाड़ी बढ़ए गेन। पंडित लोग शराब नि मिलण से भाजपा से नराज छन अर द्वारिका का शंकराचार्य का पास जाणा छन कि नरेंद्र मोदी की घोर आलोचना करे जाव। सुणण मा आई कि द्वारिका पीठ का शंकराचार्य उत्तराखंड का बामणु दुःख से अत्यंत दुखी छन।

चमोली कु संवाददाता बिंडि-बेकार-बोल का अनुसार सरा उत्तराखंड मा मास्टर बि नाराज छन। अघोषित परम्परा का अनुसार चुनावुं मा हरक पार्टी शराब बाँटदी छे किन्तु ये चुनाव मा मोदी समर्थन लहर या मोदी विरोधी लहर का कारण हरेक पार्टी चुनावका पारम्परिक हथियार चलाण बिसरी गे अर क्वी बि पार्टी मास्टरुं तै चुनाव बगत बि मुफ्त मा शराब बितरित नी करणी च जांसे मास्टर लोग अति कुपित छन अर यांक असर अवश्य ही वोटिंग पर पड़न वाळ च।
ये चुनाव मा शराब की नदी की जगा आश्वासनों गदन बगण से आम जनता निरास च कि बकै समय तो आनंद नि मिल्दो पर चुनावुं बगत मुफ्त की शराब से ले आनंद मिल्दो छौ सि बि राजनीतिक पार्टयूंन ये बगत नि दे। .
ये चुनाव मा मुफ्त की शराब नि बंटण से गैम्बलिंग अर पिंक इंडस्ट्री (शिकार ) पर बहुत बड़ो धक्का लग। अनुमान च कि गैम्बलिंग इंडस्ट्री अर पिंक इंडस्ट्री मा रिसेसन/मंदी आण से इंटरनटेनमेंट इंडस्ट्री तै भौत नुक्सान हूण वाळ च। पोटेंशियल चीफ मिनिस्टर सतपाल महाराजन वायदा कार कि चुनावुं पश्चात गैम्बलिंग अर पिंक इंडस्ट्री (शिकार ) तैं इंसेंटिव दिए जाल जांसे इंटरनटेनमेंट इंडस्ट्री मा वृद्धि होली। इनि आजका मुख्यमंत्रीन बि भीतरी भीतर आश्वासन दे कि गैम्बलिंग अर पिंक इंडस्ट्री (शिकार ) माँ सुधार का वास्ता उत्तराखंड सरकार प्रतिबद्ध च ।

Copyright@ Bhishma Kukreti 6 /5//2014
.
*कथा , स्थान व नाम काल्पनिक हैं।
[गढ़वाली हास्य -व्यंग्य, सौज सौज मा मजाक से, हौंस,चबोड़,चखन्यौ, सौज सौज मा गंभीर चर्चा ,छ्वीं;- जसपुर निवासी द्वारा जाती असहिष्णुता सम्बंधी गढ़वाली हास्य व्यंग्य; ढांगू वाले द्वारा पृथक वादी मानसिकता सम्बन्धी गढ़वाली हास्य व्यंग्य;गंगासलाण वाले द्वारा भ्रष्टाचार, अनाचार, अत्याचार पर गढ़वाली हास्य व्यंग्य; लैंसडाउन तहसील वाले द्वारा धर्म सम्बन्धी गढ़वाली हास्य व्यंग्य;पौड़ी गढ़वाल वाले द्वारा वर्ग संघर्ष सम्बंधी गढ़वाली हास्य व्यंग्य; उत्तराखंडी द्वारा पर्यावरण संबंधी गढ़वाली हास्य व्यंग्य;मध्य हिमालयी लेखक द्वारा विकास संबंधी गढ़वाली हास्य व्यंग्य;उत्तरभारतीय लेखक द्वारा पलायन सम्बंधी गढ़वाली हास्य व्यंग्य; मुंबई प्रवासी लेखक द्वारा सांस्कृतिक विषयों पर गढ़वाली हास्य व्यंग्य; महाराष्ट्रीय प्रवासी लेखक द्वारा सरकारी प्रशासन संबंधी गढ़वाली हास्य व्यंग्य; भारतीय लेखक द्वारा राजनीति विषयक गढ़वाली हास्य व्यंग्य; सांस्कृतिक मुल्य ह्रास पर व्यंग्य , गरीबी समस्या पर व्यंग्य, आम आदमी की परेशानी विषय के व्यंग्य, जातीय भेदभाव विषयक गढ़वाली हास्य व्यंग्य; एशियाई लेखक द्वारा सामाजिक बिडम्बनाओं, पर्यावरण विषयों पर गढ़वाली हास्य व्यंग्य, राजनीति में परिवार वाद -वंशवाद पर गढ़वाली हास्य व्यंग्य; ग्रामीण सिंचाई विषयक गढ़वाली हास्य व्यंग्य, विज्ञान की अवहेलना संबंधी गढ़वाली हास्य व्यंग्य ; ढोंगी धर्म निरपरेक्ष राजनेताओं पर आक्षेप , व्यंग्य , अन्धविश्वास पर चोट करते गढ़वाली हास्य व्यंग्य, राजनेताओं द्वारा अभद्र गाली पर हास्य -व्यंग्य श्रृंखला जारी ]

Copy Protected by Chetans WP-Copyprotect.