Sep
15

Shukracharya: The first management Guru of the Earth

Shukracharya: The first management Guru of the Earth
(Guidelines for Chief Executive Officers (CEO) series -1
: Bhishma Kukreti (The management Historian)
Today, management authors cite examples of many Management Gurus. However, the first management Guru had been Shukracharya.
Mahabharata is the first recorded book that deals first time on King managing the kingdom. Mahabharata is the first recorded book that refers first time the Neeti or policy or code of conduct or management (mostly King or Kingdom officers or mangers).
In 59th Chapter of Mahabharata of Shanti Parva (After the death of Bhishma and Bhishma offering Management lessons to Yudhishthara) , there is discussion on Neeti or Policy or management science In that chapter, the narrator states that when in the earth there was loss for righteous deeds , Gods reached to Prajapati and requested him to bring back the Dharma (righteous deeds) . Prajapati create a Shastra that is Neeti Shastra (Policy, morality management) or Dandneeti.
It is stated in Shukraneeti book (1) that initially, Shiva created Vaishalaksha Neetishastra comprising 10000 shlokas. Indra condensed that Grantha and created Bahudantak shastra comprising 5000 shlokas. After that, Gods Guru Brihaspati condensed Bahudantak and created Baharspatya Grantha comprising 3000 sholkas. Later on Shukracharya ( Guru of Devils) condensed Baharspatya Grantha and created Shukraneeti comprising of 2200 shlokas.
Shukraneeti was essential for Kings to manage the Kingdom. From that time , other Kingdom management gurus as Vidur , Prahsar, Bhishma , Chanakya folloed Shukraneeti too. Today too, Shukraneeti is essential for chief executive officers , prime ministers, ministers, managers at various levels to follow Shukraneeti for managing the institution.
Shukraneeti deals with the rights and duties of the King (CEO); Rights and Duties of prince (second in command); Characteristics of Nation and King (Institution and CEO); Characteristics of friend and enemy; Resource management; Relationship between the King and the citizens (Relationship between CEO-staff- customers); Art and Knowledge; Common policies; King characteristics; defence mechanism ; army management (strategies) etc. All the above subjects of Shukraneeti are relevant today for all managers and CEOs .
In the following chapters, this author will offer teaching of Shukraneeti relevant to politicians, administrators, managers and policy makers at all levels in all institutions including UNO.
References
1-Shukraneeti (Neeti Vishayak ek Shreshtha granth) , Manoj Pocket books, Delhi , page Vishay pravesh 1-3)

Copyright@ Bhishma Kukreti, 2019
Guidelines for Chief Executive Officers; Guidelines for Managing Directors; Guidelines for Chief Operating officers (CEO); Guidelines for General Mangers; Guidelines for Chief Financial Officers (CFO) ; Guidelines for Executive Directors ; Guidelines for ; Refreshing Guidelines for CEO; Refreshing Guidelines for COO ; Refreshing Guidelines for CFO ; Refreshing Guidelines for Managers; Refreshing Guidelines for Executive Directors; Refreshing Guidelines for MD ; Relevancy of Shukraneeti for CEOs

Sep
14

Band Kara Polythene: An Inspiring drama for stopping Polythene Bags Uses

Band Kara Polythene: An Inspiring drama for stopping Polythene Bags Uses
(Chronological History and Review of Modern Garhwali Stage Plays)
Review of Garhwali Stage Play collection ‘Bandyo ki Chitthi (Plays by Dr. Umesh Chamola -1 )
(Review of Children Stage Play ‘Band Kara Polythene) ’ the Stage play created by Dr. Umesh Chamola )
Review by: Bhishma Kukreti (Literature Historian and Critic)
-
Dr. Umesh Chamola is a versatile Garhwali language literature creative that created short stories, novel, dramas and collected folk stories too. ‘Bandyo ki Chitthi (letter from Forest Godess) is 10 children Garhwali dramas collection by Umesh Chamola. ‘Band Kara Polythene’ is first stage drama from the said collection.
The drama ‘Band Kara Polythene’ is about the wrongs of polythene and very harmful for the earth and for the animals health too. The drama is short but purposeful and inspiring too.
The language, the dialogues, are simple for children and the twist is proper for inspiring children for not using polythene bags.
The education department should instruct teachers for playing the said drama in every school.

Copyright@ Bhishma Kukreti
Garhwali Children Stage plays /dramas from Block, Pauri Garhwal, South Asia; Garhwali Children Stage plays /dramas from Garhwal, South Asia; Garhwali Children Stage plays /dramas from Chamoli Garhwal, South Asia; Garhwali Children Stage plays /dramas from Rudraprayag Garhwal, South Asia; Garhwali Children Stage plays /dramas from Tehri Garhwal, South Asia; Garhwali Children Stage plays /dramas from Uttarkashi Garhwal, South Asia; Garhwali Children Stage plays /dramas from Dehradun Garhwal, South Asia;

Sep
13

प्रवासियों का उत्तराखंड में शिक्षा पर्यटन विकास में योगदान 

प्रवासियों का उत्तराखंड में शिक्षा पर्यटन विकास में योगदान 
Contribution of Migrated Uttarakhandis for Education Tourism Development 
उत्तराखंड में शिक्षा पर्यटन संभावनाएं  – 8
Education Tourism  Development in Uttarakhand -8
उत्तराखंड पर्यटन प्रबंधन परिकल्पना -  411
Uttarakhand Tourism and Hospitality Management – 411 
आलेख -      विपणन आचार्य   भीष्म कुकरेती 
-   उत्तराखंड भाग्यशाली है कि इस क्षेत्र में शिक्षा विकास में प्रवासियों ने बहुत बड़ी भूमिका निभाई।  कुमाऊं व गढ़वाल विश्व विद्यालय खुलवाने में स्व हेमवती नंदन बहुगुणा का योगदान कौन भुला सकता है और हेमवती नंदन बहुगुणा स्वयं एक प्रवासी ही थे।     शिक्षा पर्यटन हेतु निम्न मुख्य संरचनत्मक संसाधनों की आवश्यकता पड़ती है (Infrastructure for Education Tourism )-* 
क्षेत्र व छात्रों अनुसार शिक्षण संस्थान खुलना 
* विविध व मांग अनुसार विषय शिक्षण 
*  निपुण शिक्षकों की उपलब्धि 
* छात्रों , शिक्षकों , अभिभावकों , अन्य यात्रियों हेतु वास , रहवास व मनोरंजन की उपलब्धि
 * छात्रों हेतु भोजन व अन्य आवश्यकता पूर्ति की उपलब्धि याने बाजार  
* पुस्तक उपलब्धि याने बुक सेलर्स *
अभिभावकों आदि हेतु दर्शनीय स्थल    

उत्तराखंडी प्रवासियों ने ब्रिटिश काल में शुरू से ही शिक्षा प्रसार में  धन व शारीरिक व अन्य तरह से योगदान दिया।   मल्ला ढांगू के सिलोगी  स्कूल खुलवाने में प्रवासियों का अप्रतिम योगदान रहा है।  स्व सदा नंद कुकरेती को  क्षेत्र के प्रवासी  सिलोगी स्कूल हेतु दान दिया करते थे।  स्व नंदा दत्त कुकरेती ‘मैनेजर साब ‘ हर वर्ष भारत के अन्य शहरों में रहने वाले क्षेत्रीय प्रवासियों से मिलने जाते थे और सिलोगी स्कूल हेतु  सहयोग राशि प्राप्त करते थे।  जसपुर के स्व विष्णु दत्त जखमोला व कड़ती के स्व सूबेदार गोबरधन प्रसाद सिल्सवाल ने सिलोगी में दूकान व मकान चिनवाए थे जो शिक्षा पर्यटन हेतु इंफ्रास्ट्रक्चर ही थे। गैंडखाल में मिडल स्कूल खोलने व चलाने में तल्ला ढांगू  के दसियों प्रवासियों ने कई तरह से योगदान दिया।  किंसूर या पुळ बौण  मिडल स्कूल खुलने व चलाने में बिछला ढांगू के  दसियों प्रवासियों ने धन व अन्य प्रकार से योगदान दिया।  भृगुखाल कॉलेज उदयपुर पट्टी , पौड़ी गढ़वाल की स्थापना व चलवाने में भी कई प्रवासी जैसे ढांगळ  के स्व टीका राम कुकरेती का कई तरह से योगदान  रहा है।    कई प्रवासियों के पुत्र -पुत्री शिक्षक बनकर उत्तराखंड में रहने लगे।  जैसे सिलोगी स्कूल में ग्वील के युवा प्रवासी स्व जानकी प्रसाद कुकरेती लखनऊ छोड़कर सिलोगी बसे    आज भी ग्रामीण क्षेत्रों के स्कूलों के अध्यापक प्रवासियों के निर्मित मकानों में रहते हैं जो एक तरह का योगदान ही तो है।  इसी तरह लगभग सभी क्षेत्रों  के प्रवासियों ने अपने अपने क्षेत्रों में शिक्षा प्रसारण में अप्रतिम योगदान दिया व आंतरिक शिक्षा पर्यटन को विकसित किया।   गुरु राम ऐज्युकेसन ट्रस्ट के महंत स्व इंदिरेश चरण दास भी प्रवासी ही थे जिन्होंने उत्तराखंड, हिमाचल  व पंजाब में शिक्षा प्रसार हेतु अविश्मरणीय योगदान दिया  ।  
Copyright@ Bhishma Kukreti 2019Developing Education Tourism in Pauri Garhwal , Uttarakhand; Developing Education Tourism in Haridwar Garhwal , Uttarakhand; Developing Education Tourism in Dehradun Garhwal , Uttarakhand; Developing Education Tourism in Uttarkashi Garhwal , Uttarakhand; Developing Education Tourism in Tehri Garhwal , Uttarakhand; Developing Education Tourism in Chamoli Garhwal , Uttarakhand; Developing Education Tourism in Rudraprayag Garhwal , Uttarakhand; Developing Education Tourism in  Udham Singh Nagar Kumaon , Uttarakhand; Developing Education Tourism in  Nainital Kumaon , Uttarakhand; Developing Education Tourism in Almora  Kumaon , Uttarakhand; Developing Education Tourism in Pithoragarh  Kumaon , Uttarakhand; गढ़वाल में शिक्षा पर्यटन विकास ; कुमाऊं में शिक्षा पर्यटन विकास , हरिद्वार में शिक्षा पर्यटन विकास ; देहरादून में शिक्षा पर्यटन विकास , उत्तरी भारत में  शिक्षा पर्यटन विकास की स्म्भावनाएँ ; हिमालय , भारत में शिक्षा पर्यटन की संभावनाएं , Contribution of Migrated Uttarakhandis for Education Tourism Development , Developing Education Tourism 

Sep
11

Parya a Garhwali Story

Parya: A bad story style from a learned literature analyst
(Chronological History and Review of Modern Garhwali Short Stories/Fiction Series)
(Review of Short Story Collection ‘Udrol’ (Stories written by Sandeep Rawat -1 )
(Review of ‘Parya’ a
Garhwali Short story (Story written by Sandeep Rawat )
Review by: Bhishma Kukreti (Literature Historian)
-
Parya a Garhwali story is as “There was a king and Queen and both died and that is the end of story”. There are worse than this story in Garhwali and I never criticized badly those stories. However, when a literature analyst as Sandeep Rawat publishes ‘Parya’ type story it is painful for me and for the whole Garhwali literature community.
Garhwali literature creative have more responsibilities than Hindi writers that their literature create more readers and make Garhwalis habitual of reading Garhwali prose. However, the’ Parya’ story by Sandeep frustrates me. The story is real one that a young woman loses her husband and she nurtures her two sons by raising buffalos and agriculture. The potentiality is very high in the plot for showing struggle, pain and brave heart of the young widow but Sandeep fails on taking advantages of the potential plot.

Garhwali short Story – Parya
By Sandeep Rawat
From ‘Udrol’ a Garhwali Short Stories Collection
Pub: Utkarsha Prakashan Meerut
Year – 2017
Copyright@ Bhishma Kukreti, 2019
Modern Garhwal Fiction /short stories from Uttarkashi Garhwal, South Asia; Modern Garhwal Fiction /short stories from Tehri Garhwal, South Asia; Modern Garhwal Fiction /short stories from Pauri Garhwal, South Asia; Modern Garhwal Fiction /short stories from Rudraprayag Garhwal, South Asia; Modern Garhwal Fiction /short stories from Dehradun

Sep
11

सिलोगी बजार विकास : ग्रामीण क्षेत्र में शिक्षा पर्यटन उदाहरण 

सिलोगी बजार विकास : ग्रामीण क्षेत्र में शिक्षा पर्यटन उदाहरण 
Silogi Market : Example of  Development of Education Tourism in  Rural Uttarakhand उत्तराखंड में शिक्षा पर्यटन संभावनाएं  – 7 
Education Tourism  Development in Uttarakhand -7 
उत्तराखंड पर्यटन प्रबंधन परिकल्पना -  410
Uttarakhand Tourism and Hospitality Management – 410 
आलेख -      विपणन आचार्य   भीष्म कुकरेती 
- सिलोगी मल्ला ढांगू पौड़ी गढ़वाल  का एक महत्वपूर्ण स्थान है जो लंगूर, डबरालस्यूं , बिछला  ढांगू व मल्ला ढांगू पत्तियों का मिलन स्थल भी कहा जा सकता है।  सिलोगी नाम कैसे पड़ा कोई नहीं बता सकता है किन्तु सिल्ल याने ठंडा व छायादार जगह का गुण सिलोगी के नाम पड़ने के पीछे अवश्य है।  सिलोगी एक 5000  फ़ीट ऊँची पहाड़ी  है जहाँ से  उत्तर में चौखम्भा पहाड़ियां , मसूरी  , व दक्षिण में माबगढ़ आदि पहाड़ियां दिखती है।  पहाड़ी पर कुछ चौरास भी है और दर्शनीय स्थल है।   सन 1923 तक सिलोगी जल्ली (आज कड़ती कांडे ) ग्राम सभा के अंतर्गत खेत वाली जगह थी और गेंहू व दालों हेतु प्रसिद्ध स्थल था।  शायद कड़ती -कांडे वालों के बूसड़ व गौशाला रहे होंगे।     ग्वील मल्ला ढांगू के संत सदानंद कुकरेती जी को ब्रिटिश अत्याचार के कारण विशाल करती का सम्पादन छोड़ना पड़ा और वे चैलूसैण  (डबरालस्यूं ) में एक मिसनरी स्कूल में पढ़ने आ गए।  किन्तु पादरी द्वारा हिन्दू शिल्पकारों का धर्मान्तर करवाने से संत सदानंद कुकरेती ने स्कूल छोड़ दिया और डबरालस्यूं के बिष्ट जी , डबराल जी , लंगूर के पसबोला जी , बदलपुर के हरिराम जखमोला के साथ उन्होंने सिलोगी में मिडल स्कूल (5 वीं से 7 वीं तक ) खोला।  स्कुल के भवन हेतु मल्ला ढांगू के शिल्पकारों ने दान में स्कूल चिना व अन्य लोगों ने कई तरह के दान दिया।  स्कूल को कड़ती -कांडे वालों ने खेत व वन दे दिए।    संत सदानंद जी का कुछ समय बाद इंतकाल हो गया और धनाभाव के कारण स्कूल बंद हो गया।  बाद में ग्वील के ही स्व नंदा  दत्त कुकरेती ने स्कूल को पुनर्जीवित किया और सन 1952 में इसे हाई स्कूल की मान्यता दिलाई।  नंदा दत्त कुकरेती याने ‘मैनेजर साब ‘ ने सिलोगी में एक टेक्निकल स्कूल भी खोला था जो चल न स्का।  सं 80 के बाद सरकार ने स्कूल को अपने हाथ में लिया व इंटर कॉलेज में उच्चीकृत किया।  लंगूर , डबरालस्यूं , ढांगू , उदयपुर में मिडल स्कूल न होने के कारण इन  पत्तियों के छात्र सिलोगी स्कूल में पढ़ने आते थे व विद्यार्थी छात्रावास में रहते थे। जब तक सिलोगी स्कूल सरकार के हाथ में नहीं गया क्षेत्र के लोग चुनाव द्वारा निर्मित कमेटी से स्कूल संचालन करते थे।     स्कूल खुलने से सिलाई पर्यटक स्थल बनता गया।  निकटवर्ती गाँवों बागों , बड़ेथ , कड़ती , जसपुर , घनसाली , पाली आदि गाँव वालों ने दुकाने निर्मित कीं  व मकान बनाये जहां छात्र व शिक्षक वास कर  सकें।  बागों के सुर्रा लाला , कड़ती के सूबेदार गोबरधन प्रसाद सिल्सवाल , जसपुर के सेठ विष्णु दत्त जखमोला , बड़ेथ के खेम सिंह  आदि ने दूकान व वास हेतु मकान निर्मित किये इसी तरह पाली के सुनारों ने भी दूकान ही नहीं अपितु मकान भी निर्मित किये।  घनसाली के दुकानदारों ने बजार को नया आयाम दिया।  जसपुर के तीन भाइयों ने सुनार की दूकान निर्मित किये , मल्ल के जोगेश्वर कुकरेती ने भी दूकान निर्माण किया।  बागों के कई लोगों ने दुकाने व मकान निर्मित किये।    दूकान खुलने से सिलोगी क्षेत्रीय मंडी बनता गया व मकानों में छात्र विशेषतः शिल्पकार (इनके लिए छात्रावास न था ) व शिक्षक सपरिवार रहने लगे।     दुकानों के खुलने से दुग्गड़ा से सेल्समैन घोड़ों पर बिक्री हेतु सिलोगी आने लगे रात भी बिताने लगे।     छात्रों , छात्रों के अभिभावक व अन्य पर्यटकों /खरीददारों हेतु चाय , नास्ता , भोजनालय व कई महत्वपूर्ण वस्तुएं सुलभ होने से ढांगू के लोग बार बार सिलोगी आने लगे और धीरे गांवों से छोटे दूकानदार भी यहाँ से होलसेल में सामन खरीदने लगे और बड़ा बजार बनता गया।  आज भी बड़ा बजार है। सिलोगी की सबसे बड़ी कमी हिअ की यहाँ जल की भरी कमी है। हमारे समय हम छात्र सुबह सुबह एक मील नीचे कांड वालों के धारे में  नित्य क्रम हेतु जाते थे।  सभी इसी धारे से जल लाते थे।  अब आधा मील दूर छप्या से पानी सुलभ है.
   यदि जल सुलभ हो जाय तो सिलोगी में कई अन्य तकनीक संस्थान भी खुल सकते हैं क्योंकि जलवायु व भौगोलिक स्थिति स्वास्थ्यपूर्ण है बस जल संकट दूर होना चाहिए। जगह की कोई कमी है है स्थल विस्तार हेतु। उपरोक्त सूचना से हम निम्न निष्कर्ष निकल सकते हैं कि ग्रामीण स्थल में शिक्षा पर्यटन कैसे विकसित हो सकतेा है -        आधारभूत संरचना का सुलभ होना - शिक्षण संस्था जो क्षत्र में न उपलब्ध हो। जैसे सदा नंद कुकरेती ने स्कूल स्थापित किया व अन्य शिक्षितों ने फ्री में अध्यापक बनना स्वीकार किया   छात्रों हेतु छात्रालय छात्रों हेतु खान पान व मकान की व्यवस्था छात्रों के अभिभावकों हेतु बजार का निर्माण समाज द्वारा दुकान व रहवास का निर्माण समाज द्वारा शिक्षण संस्था खोलने में पूरा सहयोग जैसे कड़ती वालों ने खेत दान व अन्य लोगों द्वारा दान सहयोग   समाज द्वारा शिक्षण संस्थान का विकास जैसे नंदा दत्त कुकरेती ने स्कूल को पुनर्जीवित किया व हाई स्कूल में परिवर्तित किया समाज द्वारा स्कूल प्रबंधन संचालन – समाज का योगदान सरकार का सहयोग याने समय समय पर स्कूल का विकास (उच्चीकरण आदेश व सरकारीकरण ) 
Copyright@ Bhishma Kukreti 2019Developing Education Tourism in Pauri Garhwal , Uttarakhand; Developing Education Tourism in Haridwar Garhwal , Uttarakhand; Developing Education Tourism in Dehradun Garhwal , Uttarakhand; Developing Education Tourism in Uttarkashi Garhwal , Uttarakhand; Developing Education Tourism in Tehri Garhwal , Uttarakhand; Developing Education Tourism in Chamoli Garhwal , Uttarakhand; Developing Education Tourism in Rudraprayag Garhwal , Uttarakhand; Developing Education Tourism in  Udham Singh Nagar Kumaon , Uttarakhand; Developing Education Tourism in  Nainital Kumaon , Uttarakhand; Developing Education Tourism in Almora  Kumaon , Uttarakhand; Developing Education Tourism in Pithoragarh  Kumaon , Uttarakhand; गढ़वाल में शिक्षा पर्यटन विकास ; कुमाऊं में शिक्षा पर्यटन विकास , हरिद्वार में शिक्षा पर्यटन विकास ; देहरादून में शिक्षा पर्यटन विकास , उत्तरी भारत में  शिक्षा पर्यटन विकास की स्म्भावनाएँ ; हिमालय , भारत में शिक्षा पर्यटन की संभावनाएं , Development of Education tourism in rural Uttarakhand , Development of Education Tourism in Silogi , Malla Dhangu Pauri Garhwal 

Older posts «

» Newer posts

Copy Protected by Chetans WP-Copyprotect.