Tag Archive: उत्तराखंड

Jan
13

खिचड़ी पुराण (उत्तराखंड म इतियास ) History of Khichri in Uttarakhand

खिचड़ी  पुराण (उत्तराखंड म इतियास )  History of  Khichri in  Uttarakhand      गढ़ भोज वर्ष (२०२१ ) बान  विशेष लेखमाला – १  इकबटोळ – भीष्म कुकरेती    (प्रयत्न च बल ईरानी, अरबी शब्द नि लिए जावन ) – खिचड़ी उत्तराखंड इ  ना भारतs  प्रिय पारम्परिक भोजन च. भारत म क्वी इन क्षेत्र नि  होलु  जख खिचड़ी नि  खाये जाये। खिचड़ी अर्थात दाल …

Continue reading »

Sep
28

तोरी घास /टुंटक्या की इतिहास व सब्जी व मसाला उपयोग

तोरी घास /टुंटक्या की  इतिहास व सब्जी व मसाला उपयोग    Recipe of Shepherd’s Purse   (Capsella Bursa pastoris  ) (पारम्परिक  उत्तराखंड भोजन श्रृंखला ) उत्वतराखंड न सब्जी श्रिंखल   संकलन – भीष्म कुकरेती    उत्तराखंड नाम- तोरी  घास उत्तराखंड नाम -  टुंटक्या नेपाली  नाम – चमसुरे झाड़ अन्य नाम – शेरशनी जन्म स्थल – एशिया माइनर व यूरोप। …

Continue reading »

Aug
31

खौका : उत्तराखंड से चावल की मिठाई

        खौका :  उत्तराखंड से चावल की    मिठाई    Khaunka: Sweet Dish of Rice Flour  from Uttarakhand सर्यूळ : भीष्म कुकरेती खौका बि चौंळ पीठु (Rice flour made by soaked rice ) से बणदू . पीठु तैं पाणि अर गुड़ , चिन्नी द ग द मिलैक झोंळ (Solution of rice flour …

Continue reading »

Jul
07

सीमांत उत्तराखंड में जाड़ संस्कृति व भाषा

सीमांत उत्तराखंड में जाड़ संस्कृति व भाषा The Culture and language of Jad region, Uttarkashi, Uttarakhand – Posted By: Girish Lohanion: December 09, 2019 सीमांत उत्तराखंड में जाड़ संस्कृति व भाषा सौजन्य निलोंग जोडंग घटी फेसबुक पेज – जाड़ गंगा भागीरथी नदी की सबसे बड़ी उपनदी है. ग्यारह हजार फीट की ऊंचाई पर भैरोंघाटी में …

Continue reading »

Mar
15

कुमार्था (उदयपुर ) में चंदन सिंह बिष्ट के भव्य जंगलेदार मकान में काष्ठ कला दर्शन

 कुमार्था (उदयपुर ) में चंदन सिंह बिष्ट  के  भव्य जंगलेदार मकान में काष्ठ कला  दर्शन    कुमार्था   गाँव में भवन  (तिबारी , निमदारी ) काष्ठ कला -3 Traditional House wood Carving Art of  Tibari, Nimdari of  Kumartha Village  -3 उदयपुर संदर्भ में गढ़वाल  , हिमालय  की तिबारियों/ निमदारियों  पर काष्ठ अंकन कला -  6 Traditional House wood Carving Art of West Lansdowne …

Continue reading »

Older posts «

Copy Protected by Chetans WP-Copyprotect.