Tag Archive: पौड़ी गढवाल

Feb
04

बमोली (रिंगवाड़स्यूं , एकेश्वर , पौड़ी गढ़वाल ) में भगवती प्रसाद चतुर्वेदी के भवन में गढवाली शैली की ‘काठ कुर्याणौ ब्यूंत ‘ की काष्ठ कला अलंकरण, उत्कीर्णन , अंकन

बमोली (रिंगवाड़स्यूं , एकेश्वर , पौड़ी गढ़वाल ) में भगवती प्रसाद चतुर्वेदी के भवन में गढवाली  शैली की    ’काठ   कुर्याणौ   ब्यूंत ‘  की  काष्ठ कला अलंकरण,  उत्कीर्णन , अंकन – Tibari House Wood Art in House of  Bamoli , Ekeshwar  , Pauri Garhwal गढ़वाल, कुमाऊँ,की भवन (तिबारी,निमदारी,जंगलादार मकान,,बाखली,खोली , मोरी, कोटि बनाल ) में   गढवाली  शैली की    ‘काठ   कुर्याणौ   ब्यूंत ‘  की  काष्ठ कला अलंकरण,  उत्कीर्णन , …

Continue reading »

Jan
09

बिंजोली (एकेश्वर , चौंदकोट , पौड़ी गढ़वाल ) में गमल सिंह गोलरा रावत के भवन में गढवाली शैली की ‘काठ कुर्याणौ ब्यूंत ‘ की काष्ठ कला अलंकरण, अंकन

    बिंजोली (एकेश्वर , चौंदकोट , पौड़ी गढ़वाल ) में गमल सिंह गोलरा रावत के भवन में गढवाली  शैली की    ’काठ   कुर्याणौ   ब्यूंत ‘  की  काष्ठ कला अलंकरण, अंकन Tibari House Wood Art in House of  Gamal  Singh  Gorla  Rawat ,  Binjoli   Ekeshwar Pauri Garhwal गढ़वाल, कुमाऊँ, उत्तराखंड,की भवन (तिबारी,निमदारी,जंगलादार मकान,,बाखली,खोली , मोरी, कोटि बनाल ) में   गढवाली  शैली की    ‘काठ   कुर्याणौ   ब्यूंत ‘  की  काष्ठ कला अलंकरण, …

Continue reading »

Aug
08

बिंजोली (एकेश्वर, चौंदकोट, पौड़ी गढ़वाल ) में केदार दत्त धस्माना की तिबारी में काष्ठ कला अलंकरण अंकन; लकड़ी नक्काशी

बिंजोली (एकेश्वर,  चौंदकोट, पौड़ी  गढ़वाल )  में केदार दत्त धस्माना की तिबारी में   काष्ठ कला अलंकरण अंकन; लकड़ी  नक्काशी     गढ़वाल,  कुमाऊँ , उत्तराखंड,  की भवन (तिबारी, निमदारी , जंगलादार  मकान , बाखली  , खोली  , मोरी ,  कोटि बनाल  ) काष्ठ कला अलंकरण अंकन; लकड़ी  नक्काशी-247 Tibari House Wood Art in Binjoi, Chaundkot  , Pauri Garhwal संकलन – …

Continue reading »

Jul
04

सुकई (बीरोंखाळ ) में बसन्वाल बिष्ट परिवार की भव्य तिबारी व खोळी में काष्ठ कला, अलकंरण , लकड़ी नक्काशी

 सुकई (बीरोंखाळ ) में  बसन्वाल बिष्ट  परिवार की   भव्य तिबारी व खोळी में काष्ठ कला, अलकंरण , लकड़ी नक्काशी  गढ़वाल,  कुमाऊँ , उत्तराखंड , हिमालय की भवन  (तिबारी, निमदारी , जंगलादार  मकान , बाखली  , खोली  , मोरी ,  कोटि बनाल   ) काष्ठ कला अलंकरण अंकन; लकड़ी  नक्काशी   - 192 संकलन – भीष्म कुकरेती – एक समय था जब बेटी …

Continue reading »

Copy Protected by Chetans WP-Copyprotect.