Tag Archive: Dr. Narendra Gauniyal

Aug
13

बल हमन भौत तरक्की कैरि यालि

Thanks to brain drain; most houses in Devbhoomi look like this!

बल हमन भौत तरक्की कैरि यालि गौंकि कूड़ी छोडिकै शहर मा शिफ्ट कैरि यालि सेरी-घेरी पुंगड़ी सबि बांजि छनुड़ी रीति भैंसि हंडा मा बल्द -गौड़ी जंगळ मा आवारा छोडि यालि दूध का बदल सफ़ेद पौडर कु छोळ घर्या घ्यू का बदल रिफैंड-डालडा-नकली घ्यू ताज़ी नौणि का बदल अमूल बटर गौं मा नि मिलदी पीणे छांछ …

Continue reading »

Jun
04

हौली रांडा फाट-फाट-A Garhwali Poem

Garhwali Poem By Dr. Gauniyal

चौमास का दिन कतगा भला,कतगा सुवान्दा चरि तरफ फैलीं हर्याळ पाणि कु तर-पराट गदेरों कु छल-छलाट चखुलों कु किल-किलाट डांडी-कांठ्यों मा कुयेड़ी लगीं घनघोर ग्वैर ढूंढ़णा छन अपणा-अपणा गोर निर्भगी हौलु कनु लग्युं च बींदी गौड़ी कि घांडी दूर बजणी च ग्वैरणी लगाणी च धै ये दगड्या ये हू ! ! ! इथैं कखि म्यारा …

Continue reading »

Jun
03

एक द्वी ही भौत छन,नौनु हो या नौनि दा

A beautiful poem by Dr. Gauniyal emphasizing on the need of the hour "Population Control" (Photo courtesy:http://www.mountain.org/blog/2012/02/a-solution-to-hunger-starting-with-a-seed/)

एक द्वी ही भौत छन,नौनु हो या नौनि दा. होलि मुश्किल सैंतणा की,निथर तब हे दिदा. बिंडी ह्वाला तब क्य खाला,पुट्गी राली खाली दा. सबि नंगा-भूखा उन्नी राला,तब क्य होलू हे दिदा. ल्यखणु-पढणु, झुल्ला-गफ्फा,आलो कख बिटिकी रे. फिर एक बन्दा अर सौ धंधा,तब क्य होलू हे दिदा. भर्ती हूणू इस्कुलों मा,ह्वैगे मुश्किल यूं दिनों. ढेबरा-बखरा …

Continue reading »

Jun
02

फर्शी: एक गढ़वाली कथा

सफ़ेद धोती,सफ़ेद कुर्ता,कबरिणी-डबरिणी फतुगी अर कांधी मा लाल गमछा पंडजी पर खूब खिल्दु छौ.कपाल मा लगीं चन्दन की लाल-पीली पिठे त ‘सून मा सुहागा’.खानदानी पंडित का साथ, इलाका का नामी-गिरामी मन्खी.कर्मकांडी होणा का कारण जात-पात को कुछ जादा ही ख्याल करदा छाया.उंकी अपणी एक अलग फर्शी छै.वै पर तम्बाकू कै हैंका तै नि खाणि दीन्दा …

Continue reading »

May
26

पाणि बोगी माटू बोगी

पाणि बोगी माटू बोगी ,बोगिगे मन्खी दिदा. डालि -बूटी बि नि राली ,तब क्य होलू हे दिदा. गौं-गल्या सुनपट ह्वैगीं,छनुड़ी रीति हे दिदा. डांडी-कांठी खरड़ी होलि,तब क्य होलू हे दिदा. छोड़-तीरों पानौ घास ,पुन्गड़ी रुखड़ी हे दिदा. सारी हर्बी बांजी होलि,तब क्य होलू हे दिदा. बल्द-भैंसी,गौड़ी ढांगी,हड्गी दिखेणी हे दिदा. ऐकि ली जालो कसाई,ठेला भरिकै …

Continue reading »

Older posts «

Copy Protected by Chetans WP-Copyprotect.