Tag Archive: Hindi Novel

Mar
27

“ऊँचाई में अभिमान नहीं, गहराई में निराशा नहीं”…धारावाहिक उपन्यास, लेखक – दीप पाठक

A Novel By Sh. Deep Pathak

पहली किस्त (जंजीरें कायम थीं पर दिखती न थी)  जहां धूप तो पर्याप्त थी पर उसका ताप फीका था, हवा खूब थी पर उसकी विरलता उन फेफड़ों का दम उखाड़ देती थी जो कदरन नीची जमीनों पर रहने जीने के आदी थे,पानी साफ चमकीला था पर इतना ठंड़ा कि जरुरत से घूंट भर भी ज्यादा …

Continue reading »

Copy Protected by Chetans WP-Copyprotect.