Tag Archive: Modern

May
09

सतीश रावत की गढ़वाली कविताएं

सतीश रावत की गढ़वाली कविताएं —1— बितदी बिनसरि अर उठदू घाम बिजदी डाँडी-काँठि, हर्चिदि ओंसs की बूँद कित्गा भग्यान छन तिसलि आँखी 14/07/2016 *** —2— कुछ लोग होंदिन बड़ा खतरनाक हाथ कि लकीर पढ़ण मा होंदिन उस्ताद मुट्ठी बूजि कि रख्याँ भारे ! 15/07/2016 *** —3— अदs रातै फूल-फटगी जून डाँडों का कुल़ैं का डाल़ा, …

Continue reading »

Aug
29

Gail Bald: Garhwali Story about deceptive way of selling (Galadari)

Gail Bald: Garhwali Story about deceptive way of selling (Galadari) Critical Review of Modern Garhwali Short Stories -168 Analysis of Garhwali short story ‘’ Critical Review for Garhwali Short Stories written by Mahesha Nand-6 Literature Historian: @ Bhishma Kukreti Gail-Bald (the lazy bull) is the story about Galadar (live stock trader) selling live stock by …

Continue reading »

Aug
28

गौं कि भयात

Garhwali Story गौं कि भयात Garhwali Story by: Mahesha Nand झ्यंतु कौं कS छा भरि गरीब। बसग्याळम् झौड़ पुड़्यां छा। झ्यूंतु कौं कु कूढ़ू उजंण्यां हुंयू छौ। गिड़कतळ्यूम् कूढ़ू खळ्क उजड़ि ग्या। पांडि त उजड़ी च, उबरि बि गारा-माटन् तंणसट ह्वे ग्या। तौंकु मुक ढकांणौ टपट्याट पोड़ि ग्या। गौं कS पदान जी छा भला मनिख। …

Continue reading »

Aug
14

तौंकि बग्वाळ (गढ़वाली कविता )

Modern Garhwali Folk Songs, difference between poor and Ultra Rich Poems तौंकि बग्वाळ (गढ़वाली कविता ) रचना — डा उमेश चमोला ( जन्म 1973, कौशलपुर , रुद्रप्रयाग , गढ़वाल ) Poetry by – Dr. Umesh Chamola – ( गढ़वाली कविता क्रमगत इतिहास भाग – 167 ) – इंटरनेट प्रस्तुति और व्याख्या : भीष्म कुकरेती – …

Continue reading »

Jul
30

कन्यदान (एक दबाल बटि)

कन्यदान (एक दबाल बटि) पाठकगणों! कृपया इस कहानी को अवश्य पढ़येगा – Story by Mahesha Nand Pauri – बचनसिंग अर हरसु मिस्त्र्यू छौ बकळु पिरेम। हरसु बचनसिंगौ मिस्त्रि, ल्वार अर हळ्या छौ। जै दिन बचनसिंग घौर अयुं रांदु छौ, तै दिन जु हरसु वूं कS ड्यार नि जौ त बचनसिंग वे थैं ऐड़ै-ऐड़ै कि धै …

Continue reading »

Older posts «

Copy Protected by Chetans WP-Copyprotect.