Tag Archive: New Criticism

Jul
29

नै तरां साहित्य आलोचना पर बि ध्यान दीण जरुरी च !

नै तरां साहित्य आलोचना पर बि ध्यान दीण जरुरी च ! – विमर्श – भीष्म कुकरेती – सूचना माध्यम अवतरण परान्त नै तरां साहित्य बि अवतरित हूंद। अखबार अवतरण परांत पत्रकारिता साहित्य शुरू ह्वे। इंटरनेट आणो उपरान्त तो भौत सा साहित्य की शुरुवात ह्वे। इंटरनेट या सोशल मीडिया आण से पाठकों म वृद्धि इ नि …

Continue reading »

Copy Protected by Chetans WP-Copyprotect.