Kartik Adhikari

Author's details

Name: Kartik Adhikari
Date registered: May 1, 2012
URL: http://www.bedupako.com
Yahoo! IM: kadhikari2@yahoo.com

Latest posts

  1. ज्याड़ ईजा — October 12, 2017
  2. चिड़िया — May 2, 2014
  3. नमकीन घुगुत — January 14, 2014
  4. (No title) — November 9, 2013
  5. सिमधार — March 13, 2013

Most commented posts

  1. रमानी (Ramani) — 5 comments
  2. हरक सिंह नयाल — 3 comments
  3. पुजारी बुबू — 2 comments
  4. सिमधार — 1 comment

Author's posts listings

Oct
12

ज्याड़ ईजा

ज्याड़ ईजा (मौसी) बिस्तर पर मरणासन्न पडी़ है, बस एक ही रट लगाये हुए है,” म्यर चीनी नि आय ?” बिरादरी की औरतें ज्याड़ ईजा के बालों पर अंगुलियाँ फेरती हुई कहती हैं , “ऐ जाल ओ ज्यू ऐ जाल”। ज्याड़ ईजा के तीन बेटे बहुए, नाती पोते सब उसे घेरे खड़े हैं मगर उसकी …

Continue reading »

May
02

चिड़िया

images

चिड़िया सड़क वीरान हो चली थी. पेड़ों से गिरे सूखे पीले पत्ते रह-रह कर खडखडा उठते. सड़क के दोनों ओर पेडों की हल्की सरसराहट गूंज रही थी. युनिवर्सिटी परिसर लगभग वीरान सा हो चला था. जनवरी का गुनगुना सूरज डूबने ही वाला था. ठंडी-ठंडी हवा के झोंके उसके माथे की लटों को चहरे पर बिखरा …

Continue reading »

Jan
14

नमकीन घुगुत

1609827_576931295723185_188420761_n

नमकीन घुगुत मनोहरिया की इजा का बच्चे मजाक बना रहे हैं की उसने नमकीन घुगुत बनाए हैं. गावं की औरतें भी उत्सुक्तावश और व्यंग्य कसते हुए पूछ बैठतीं हैं, “ ओ ज्यु, घुगुत के आटे में गलती से चीनी की जगह नूण मिला दिया क्या ? ” मनोहरिया की इजा एक उदास मुस्कराहट के साथ …

Continue reading »

Nov
09

(No title)

कहा जाय तो नाम में क्या धरा है पर देखा जाय तो नाम का ही खेल ठहरा तब. कैसे कैसे नाम रखे जाते थे- रतनू हवलदार, गोपाल ठेकेदार, गोबिन्दी बोंचड, नरसिंह घटाव, खिम्दा पतरोव, हरदा मास्टर (दरजी), सोबन ड्राईवर, नैना हेयरकट, मोहन पटवारी और भी जाने क्या-क्या. ऐसा कोई नहीं था जिसका उपनाम नहीं हो, …

Continue reading »

Mar
13

सिमधार

“हरक दा क्या सच है की सिमधार के स्कूल में सिर्फ एक छात्र पढ़ने वाला और उसके लिए एक मास्टर और एक दलिया पकाने वाला ?” मैंने हैरानी से हरक सिंह भोज से पूछा. हरक दा ने अपनी बूढी आँखों से मुझे देखा फिर सामने के पहाड़ पर नजरें गढा दी बड़े दार्शनिक अंदाज में …

Continue reading »

Older posts «

Copy Protected by Chetans WP-Copyprotect.