Prakash at Bedupako

Author's details

Name: Prakash at Bedupako
Date registered: March 10, 2012
URL: http://www.bedupako.com

Latest posts

  1. उत्तराखंड में मेडिकल पर्यटन की संभावनाएं — October 18, 2013
  2. बागनाथ का वरदान(भाग-12) — September 24, 2013
  3. बागनाथ का वरदान (भाग-10) — September 24, 2013
  4. बागनाथ का वरदान (भाग-11) — September 24, 2013
  5. रक्षाबंधन : अटूट विश्वास का बंधन — August 20, 2013

Most commented posts

  1. उत्तराखंड की प्राकृतिक धरोहर – पाताल भुवनेश्वर (Patal Bhuvaneshwar) — 7 comments
  2. उत्तराखंड का एक औषधीय वृक्ष ‘तिमूर’ ( जेंथेजाइलम अरमेटम ) — 3 comments
  3. महर्षि वाल्मीकि जयंती — 2 comments
  4. उत्तराखंड की उद्दाम जवानी का प्रतीक ‘बुरांश’ (Uttarakhand State Flower : Burans) — 1 comment
  5. नंदादेवी राजजात यात्रा -उत्तराखंड की एक परंपरागत विरासत (Uttarakhand Nanda Devi Raaj Jaat Yaatra) — 1 comment

Author's posts listings

Oct
18

उत्तराखंड में मेडिकल पर्यटन की संभावनाएं

डॉ बलबीर सिंह रावत ऐतिहासिक पुस्तकें तथ्य बताते हैं की प्राचीन समय से ही उत्तराखंड स्वास्थ्य पर्यटन का केंद्र रहा है. उत्तराखंड की जलवायु स्वयम में स्वास्थ्य का पर्याय होने का बोध कराती है। शीतल और शुद्ध वायु, धरती से छन कर, विभिन्न जडी बूटियों के रस युक्त आता चश्मों का जल, हरेभरे पेड़ पौधों …

Continue reading »

Sep
24

बागनाथ का वरदान(भाग-12)

pp

आभार : पुष्कर पुष्प/शैलाभ रावत कत्यूरों की अपनी अलग परम्पराएं थीं । वे लोग अपने कुलगुरु को सर्वश्रेष्ठ मानते थे । आन के लिए जान देने को तैयार रहते थे ।मालूशाही महल से निकलकर सीधे कुलगुरु के धुनें पर पहुंचा । उसने कुलगुरु को अपने माता-पिता के वचन,राजुला के बैराठ आने की कहानी और कत्यूरों …

Continue reading »

Sep
24

बागनाथ का वरदान (भाग-10)

pp

आभार : पुष्कर पुष्प/शैलाभ रावत सुबह को जब मेहर भाइयुं को पता चला कि राजुला में खाना नहीं खाया है तो वे समझ गए की उसके मन से मालू की याद निकालना आसान नहीं है । सोच विचारकर उन्होंने फैसला किया कि राजुला राह पर तभी आ सकती है जब उससे शादी कर ली जाय …

Continue reading »

Sep
24

बागनाथ का वरदान (भाग-11)

pp

आभार : पुष्कर पुष्प/शैलाभ रावत वह अपने प्रिय के द्वार तक पहुँच चुकी है यह सोचकर राजुला को रोमांच हो आया । वह ठण्ड की परवाह न करके कत्युरों के महल की ओर बढ़ गयी । राजुला की आंखें अपने प्रिय को देखने के लिए तरस रहीं थीं । वह जल्दी से मालू के पास …

Continue reading »

Aug
20

रक्षाबंधन : अटूट विश्वास का बंधन

images (2)

रक्षाबन्धन एक हिन्दू त्यौहार है जो प्रतिवर्ष श्रावण मास की पूर्णिमा के दिन मनाया जाता है। श्रावण में मनाये जाने के कारण इसे श्रावणी या सलूनो भी कहते हैं। जैसा कि सभी जानते हैं मनुष्य एक सामाजिक प्राणी है, जो एक-दूसरे से जुड़े रहने के लिए स्वेच्छा से रिश्तों के बंधन में बंधते है। ये …

Continue reading »

Older posts «

Copy Protected by Chetans WP-Copyprotect.