Tag Archive: Bhishma Kukreti

Jul
21

गढ़वाली छिटगा (Short Garhwali Poems)

***बोर्ड इम्तहान*** सळ इनैं सळ फुनैं भैर-भितर दौडा-दौड़ पटासुल्कणि अर छित्यकी धारा एक सौ चवालीस. ***पुलिस*** कठबांस मांकी-धीकी आंसू गैस तैड़ गोली अर मैना-मैना च्या पाणि. ***पाणि विभाग**** फ्री टोंटी यकुल्य़ा बाण ब्लीचिंग पौडर अर माछयों कु सुरा. ***सरकारि अस्पताळ*** भैर बंगला भितर कंगला सफ़ेद गोळी अर सफ़ेद गुबारा. ***दारू*** पीणु-पिलाणु लड़णु-झगडणु बकणु-बहकणु लटगिणु-फरकिणु निकमी …

Continue reading »

Jul
15

वो बात अलग च – एक लघु गढवाली कथा

A Small Garhwali Story

– डागटर साब नमस्कार -  – नमस्ते – कनै बटि सिद्धांत ? – यूनिवर्सिटी बटि – आपन त गढवळि भाषा पर डागटरी करी छै – हाँ – अच्गाल क्या कन्ना छन आप? – पढ़ाणु छौं – क्या गढवळि ? – न न जि ना – किलै ? – गढवळि बि क्वी पढाणै चीज च –पण …

Continue reading »

Jul
15

बिन कांडों का नि खिल्दा गुलाब: गढ़वाली कविता

बिन कांडों का नि खिल्दा गुलाब: गढ़वाली कविता

डॉ नरेन्द्र गौनियाल..सर्वाधिकार सुरक्षित बिन कांडों का नि खिल्दा गुलाब,मि जणदु छौं. पण अपणा नसीब मा फूल ना,सिर्फ कांडा छन… सुपिना त सुपिना ही च,असलियत से दूर. ऊ नि आंदा असल मा त,स्वीणों मा सही… वक्त की रफ़्तार तै,समझणु च जरूरी. यु कमवख्त वक्त,कैका बाना रुक्दू नी… कब तक रैलि इनि दूर,अन्ध्यरा का सहारा. उज्यल़ा …

Continue reading »

Jul
15

Swag-Bhag: Life is greater than Material

(Review of Garhwali Story Collection ‘Mwari(1986) by Durga Prasad Ghildiyal) The famous flood of Satpuli is one of the greatest recent disasters of Garhwal. Tens of buses fled along with drivers and others. There is folk song about flood of river Near at Satpuli,”Satpuli moter baugin khaas” Darshanu was one of the bus drivers whose …

Continue reading »

Jul
14

उखैक फिकर- एक गढ़वाली कविता

Street Lamp With No Light

इन त नी च कि वूं थे वखे फिकर नी च नेतओं कि फिकर च कै गोऊँ कथ्गा बामण कथ्गा जजमान कति भोट म्यारा कति भोट त्यारा चुनओ जित्णइ फिकर भाषण पर भाषण ससतू करी द्यूंला राशण अंधेरा रौलों, कूणा-कुमचेर बिजली का खम्बा-तार पोंछये दिउंला (उज्यले गारंटी हमारी नी च ) जीप घुमइकी, धुलु उड़े …

Continue reading »

Older posts «

Copy Protected by Chetans WP-Copyprotect.