Tag Archive: Satire

Jun
23

इन हाथों से क्या कर्रूँ ?

इन हाथों से क्या कर्रूँ ? – यूँ हथुं से क्या करण ? (Best of Garhwali Humor , Wits Jokes , गढ़वाली हास्य , व्यंग्य ) चबोड़ , चखन्यौ , ककड़ाट ::: भीष्म कुकरेती – मि राजस्थान्यूं , गुजरात्यूं अर गढ़वळ्यूं पार्टी मा नि जांदु अर कुछ ना कुछ बाना , बहाना एक्सक्यूज बणै दींदु …

Continue reading »

Jun
21

अरे नि चुलावो , नि चुलावो , स्या मेरि बूड सासुन बणवै छौ

अरे नि चुलावो , नि चुलावो , स्या मेरि बूड सासुन बणवै छौ – (Best of Garhwali Humor , Wits Jokes ) s =आधी अ – चबोड़ , चखन्यौ , ककड़ाट ::: भीष्म कुकरेती नै मकान बणानो बान पुरण कूड़ उजण जरूरी छौ। बिहारी ठिकदारक गढ़वळि मजदूर ऐ गे छा। समान सुमान भैर करणो पैल …

Continue reading »

Jun
18

प्रतीक्षालयुं मा प्रतीक्षा प्रसव पीड़ा

प्रतीक्षालयुं मा प्रतीक्षा प्रसव पीड़ा (Best of Garhwali Humor , Wits Jokes ) s =आधी अ – चबोड़ , चखन्यौ , ककड़ाट ::: भीष्म कुकरेती – प्रतीक्षा हमर जमनाक एक संस्कृति च , इन्तजार करण सभ्यताs अंग च , प्रतीक्षा मा जीण एक कला बि च। म्यार प्रतीक्षालय से पैल पैल मुखसौड़ तब ह्वे छे …

Continue reading »

Jun
15

क्या तुम भगवान से बि खिजेणा रौंदा ?

क्या तुम भगवान से बि खिजेणा रौंदा ? – (Best of Garhwali Humor , Wits Jokes ) – मजा ही मजा मा मजाक ::: भीष्म कुकरेती – खिज्याण , चिरड़ उठण , झुंझलाण मनिखौ परबिरती च पण जु बड़बड़ाण आदत बणी गे तो समझ ल्यावो तुम खिज्यंदेर मनिख ह्वे गेवां। झुंझलण्या मनिखौ कुछ पछ्याणक – …

Continue reading »

Jun
14

जैंगण अर बुर्या खौड़

जैंगण अर बुर्या खौड़ (Best of Garhwali Humor , Wits Jokes ) – हौंस इ हौंस मा समळौण ::: भीष्म कुकरेती – जब बि बरसात ऋतू या घनघोर बरसात शुरू हूंद मि तै द्वी जीव याद ऐ जांदन। जैंगण अर बुर्या खौड़। बुर्या खौड़ का जलड रात चकदन अर कवि कालीदासन बि अपण नाटकों मा …

Continue reading »

Older posts «

Copy Protected by Chetans WP-Copyprotect.