Bedupako

Raat Ujali Pai Ghaam Nimailo Daan Kanan Kishiya Fulo - Song details.
play

Song Name: Raat Ujali Pai Ghaam Nimailo Daan Kanan Kishiya Fulo
Description:
Raat Ujali Pai Ghaam Nimailo Daan Kanan Kishiya Fulo
Genre Kumaoni Kavita Occassion Motivation
Singer Girish Chandra Tiwari (Girda)
Lyrics:
रात उजली पै घाम निमैलो डान कानन की सिया फूलो,
शिवज्यु कें मारी मुट्ठी रंगे की सार हिमाल है गो छ रंगीलो,
शिवज्यु कें मारी मुट्ठी रंगे की सार हिमाल है गो छ रंगीलो,
हुलरी ए गे बसंत का परी होगी जो गाथा रंग पिंगलो,
रात उजली पी घाम निमैलो डान कानन की सिया फूलो,
शिवज्यु कें मारी मुट्ठी रंगे की सार हिमाल है गो छ रंगीलो,
हुलरी ए गे बसंत का परी होगी जो गाथा रंग पिंगलो,
पिंगली आज नानु की झगुली पिंगहला फूलों का टांक पिंघला,
पिंगली आज नानु की झगुली पिंगहला फूलों का टांक पिंघला,
पिंघली पुर धरती पिछौडी पिंघला आज आकाश बादला,
झाल को जो छार फोको जोगी को आज विभूत जाले की भली गे,
झाल को जो छार फोको जोगी को आज विभूत जाले की भली गे,
मुल-मुल हसें हिमाल की चेली शुकिली हंसी खोलने अनमनी गे,
मुल-मुल हसें हिमाल की चेली शुकिली हंसी खोलने अनमनी गे,
कि बन बोटन फूटी गयी फुना कैरू जो होई का कान फोनिना,
आडू खुमानी का फूल मोलिना हरिया सार में पिंगली देना,
कि बन बोटन फूटी गयी फुना कैरू जो होई का कान फोनिना,
आडू खुमानी का फूल मोलिना हरिया सार में पिंगली देना,
शुरू-शुरू हवा पड़ी फागुनै कि फून फुना बन परी नाक में भै गे,
फर-फर उड़ो बसंती आंचल सुर्बुरु हिले फु फुटा धी लये गे,
फुटा धी लये गे बसंत की परी फोकी गो जाँ तां रंग पिंगलो,
रात उजली पै घाम निमैलो डान कानन की सिया फूलो,
शिवज्यु कें मारी मुट्ठी रंगे की सार हिमाल है गो छ रंगीलो.

======================================


Rating 5 Year: 2010 Language:
Song uploader Aama Hits 685

Permanent Link

Copy paste the following HTML code to embed them in to your page.

 

Similar songs

Ki Pyasa Paani Raha Umar .. O Ho Re O Digo Lali Chani.. O Ho Re O Digau Laali
Raat Ujali Pai Ghaam Nima.. Paani Wich Meen Pyasi Khe.. O Bhumi Teri Jai Jaikaara..
Hum Ladte Reya Beni Hum L.. Dil Lagane Main Waqt Lagt.. Is Wyapari Ko Pyas Bahut ..
Shiv Ke Man Maahi Basey K.. Jab Fagun Rang Jhamakte H..

Bedupako user comments.

 

Add a Comment using Facebook, Twitter, Yahoo!, DISQUS, OpenID or Anonymus

Follow us on twitter Follow us on twitter Follow us on twitter Follow us on twitter Follow us on twitter