Bedupako

Baduli-2017 - Song details.
play

Song Name: Baduli-2017
Description:
To celelbate the togetherness, every year we organize baduli in New Zealand. Team UANZ Uttarakhand Association of New Zealand inviting you all people to join and feel the fragrance of Uttarakhand in baduli 2017.

इस बार बसंतोत्सव न्यूजीलैंड की धरती में...

न्यूजीलैंड की धरती में भी उत्तराखंड के प्रवासी लोग अपनी संस्कृति और
परंपराओं से जुड़े हैं। बेशक वे दूर हैं मगर अपने परिवेश परंपरा
संस्कृति को याद करते हैं। समय के साथ आधुनिकता उनके जीवन में भी आई है।
जीवन की शैली भी कुछ बदली है। कुछ साज बदले कुछ परिधान बदले मगर कोई चीज है कौई आहट है जो बार बार उन्हें अपने गांव घर की ओर खींचती हैं। उसकी याद दिलाती है। यही वजह है कि वह अपने लोक कलाकारों को पुकारते हैं। बाडुली ग्रुप अपने प्रवासियों के बीच होगा । कुछ परंपरागत
संगीत होगा कुछ आधुनिक साजों में सजा सगीत होगा । मगर उत्तराखंड की तरह
ही आबोहवा में न्यूजीलैंड में बंसत का सा माहौल होगा, वहीं अपना
उत्तराखंड भी झलक रहा होगा ।

People from #Uttarakhand living in New Zealand are still connected to their roots of Himalayas though they are too far from their motherland but still they memorize culture & tradition of Uttarakhand. With time they also modernized in their day to day life and also there was a change in society but something is there in their spirit which provokes them to connect to their roots. That’s the reason of Baduli ,through which for a day they feel the fragrance of Pahad and keep it with them for 364 days. Lets celebrate this day together in the month of April 2017.
Genre Occassion
Singer
Lyrics:
To celelbate the togetherness, every year we organize baduli in New Zealand. Team UANZ Uttarakhand Association of New Zealand inviting you all people to join and feel the fragrance of Uttarakhand in #baduli 2017.

इस बार बसंतोत्सव न्यूजीलैंड की धरती में...

न्यूजीलैंड की धरती में भी उत्तराखंड के प्रवासी लोग अपनी संस्कृति और
परंपराओं से जुड़े हैं। बेशक वे दूर हैं मगर अपने परिवेश परंपरा
संस्कृति को याद करते हैं। समय के साथ आधुनिकता उनके जीवन में भी आई है।
जीवन की शैली भी कुछ बदली है। कुछ साज बदले कुछ परिधान बदले मगर कोई चीज है कौई आहट है जो बार बार उन्हें अपने गांव घर की ओर खींचती हैं। उसकी याद दिलाती है। यही वजह है कि वह अपने लोक कलाकारों को पुकारते हैं। बाडुली ग्रुप अपने प्रवासियों के बीच होगा । कुछ परंपरागत
संगीत होगा कुछ आधुनिक साजों में सजा सगीत होगा । मगर उत्तराखंड की तरह
ही आबोहवा में न्यूजीलैंड में बंसत का सा माहौल होगा, वहीं अपना
उत्तराखंड भी झलक रहा होगा ।

People from #Uttarakhand living in New Zealand are still connected to their roots of Himalayas though they are too far from their motherland but still they memorize culture & tradition of Uttarakhand. With time they also modernized in their day to day life and also there was a change in society but something is there in their spirit which provokes them to connect to their roots. That’s the reason of Baduli ,through which for a day they feel the fragrance of Pahad and keep it with them for 364 days. Lets celebrate this day together in the month of April 2017.
Rating 5 Year: 2017 Language: HINDI
Song uploader sanjupahari Hits 2801

Permanent Link

Copy paste the following HTML code to embed them in to your page.

 

Similar songs

Haan Tero Sajilo Singaar .. Gajimala Takhuli Ko Kansu Ekhi yin pithve ma yahi j..
The Ancient And Tradition.. 04 DUNIYA DUSHMAN Meri To Need Udai Gay Ter..
Paali Dharunda Goryu Re Mantri Dida Sainu Cha .. dugdda wala bhaijyon
Jhanki kunje Janduri Runayi ¦ Arvind .. Hit Ve Suwa Gwaldam Ki Ga..
Rupsa Ramoti Ghunguru Na .. Lal Rangi Ki Sindur Ki Da.. Kumaoni Geet

Bedupako user comments.

 

Add a Comment using Facebook, Twitter, Yahoo!, DISQUS, OpenID or Anonymus

Follow us on twitter Follow us on twitter Follow us on twitter Follow us on twitter Follow us on twitter